क्या जनता को लूट कर ही खजाना भरोगे सरकार ? : रघुनाथ सिंह नेगी

◇ मास्क न पहनने पर ₹5000 जुर्माने का किया गया है प्रावधान|
◇ मोटर व्हीकल एक्ट के तहत पहले ही लूट रही सरकार जनता को|
◇ पैट्रोलियम उत्पादों पर भी खुली लूट मचा रखी है सरकार ने|

विकासनगर : जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि कोरोना महामारी की आड़ में सरकार ने व्यापार शुरू कर दिया है, जिसके तहत मास्क न पहनने पर 1000 के बदले ₹5000 जुर्माना व सजा की व्यवस्था (प्रावधान) की गई है, जोकि सरासर सरकारी लूट है| नेगी ने कहा कि वर्तमान में जनता वैसे ही आर्थिक तंगी एवं अन्य परेशानियों से जूझ रही है, लेकिन सरकार ने उनकी परेशानी को और बढ़ाने का काम किया है| जनता को इस समय मदद की दरकार है लेकिन मदद करने के बजाय सरकार नए-नए फंडे अपनाकर लूट की योजना तैयार करने में व्यस्त है| नेगी ने कहा कि पूर्व में भी मोटर व्हीकल एक्ट की आड़ में भारी भरकम जुर्माने का प्रावधान कर जनता को लूटने का काम सरकार द्वारा किया गया तथा वहीं पैट्रोलियम उत्पादों पर भारी भरकम टैक्स लगाकर भी उन को लूटा जा रहा है| नेगी ने कहा कि सरकार जायज तरीके से राजस्व इकट्ठा करने में विफल साबित हो रही है क्योंकि माफियाओं से सांठगांठ के चलते जो राजस्व सरकारी खजाने में आना चाहिए था वह इनकी जेबों में जा रहा है| नेगी ने व्यंग कसते हुए कहा कि जनता को बार-बार तंग करने के बजाए सरकार जनता की संपत्ति को ही अधिग्रहित कर ले, जिससे सरकार का राजस्व बढ़ सके और इन पैसों से झूठी उपलब्धि के विज्ञापनों पर पैसा लुटाया जा सके|

Leave A Reply

Your email address will not be published.