आखिर क्यों फटते है बादल, जानिए?
आखिर क्यों फटते है बादल, जानिए?

टीम डिजिटल : अमरनाथ में बाबा बर्फानी की गुफा के पास बीते कल जो हुआ वह चौकाने वाला रहा। जी दरअसल यहाँ बादल फटने से अब तक 3 महिलाओं समेत 12 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है। केवल यही नहीं, बल्कि 35-40 श्रद्धालु अब भी फंसे हुए हैं। इसी के साथ यह भी बता दें कि ये हादसा बीते शुक्रवार शाम साढ़े 5 बजे हुआ। कहा जा रहा है जिस समय बादल फटने की घटना हुई, तब गुफा के पास 10 से 15 हजार श्रद्दालु मौजूद थे। हालाँकि फिलहाल सेना के साथ ही एनडीआरएफ रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी हुई है। अब आज हम आपको बताते हैं आखिर क्या है बादल का फटना और ऐसी घटनाएं पहाड़ी इलाकों में ही क्यों होती हैं?

क्या होता है बादल का फटना?

अगर हम मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो जब एक ही जगह पर अचानक बहुत सारा पानी गिर जाए तो उसे बादल का फटना कहते हैं। जी हाँ और आसान भाषा में कहें तो पानी से भरे गुब्बारे में अगर पिन चुभा दी जाए तो उसका सारा पानी एक ही जगह स्पीड से गिरेगा। जी हाँ और ठीक इसी तरह बादल जब एक ही जगह बहुत सारा पानी गिरा देते हैं तो उसे बादल का फटना कहा जाता है।

क्यों होती है बादल फटने की घटनाएं?

जी दरअसल समुद्र से वाष्प जब उपर उठती है तो उसमें बहुत ज्यादा नमी होती है। ऐसे में कई बार ज्यादा नमी वाले बादल ऊंचे और पहाड़ी इलाकों में रुक जाते हैं। वहीं पहाड़ों की ऊंचाई के चलते वो ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाते हैं और इसकी वजह से ऊंचाई वाले इलाकों में बादल फट जाते हैं, जिनसे 100 मिमी प्रति घंटे की रफ्तार से एक ही जगह पर बारिश होती है। इसके अलावा पहाड़ों पर बादल फटने और तेज बारिश के चलते पानी अपने साथ मिट्टी, कीचड़ और पत्थरों के टुकड़े तेजी से बहाते हुए लाता है और ऐसे में इसके सामने आने वाली हर चीज खत्म हो जाती है।

Share this story