UOU नियुक्तियों में गड़बड़ी मामले में कुंदन लटवाल ने दी सफाई, बोले राजनीतिक छवि को धूमिल करने के साजिश
UOU नियुक्तियों में गड़बड़ी मामले में कुंदन लटवाल ने दी सफाई, बोले राजनीतिक छवि को धूमिल करने के साजिश

हल्द्वानीः उत्तराखंड मुक्त विद्यालय में नियुक्तियों में गड़बड़ी (Uttarakhand Open University Recruitment Scam) के आरोपों को बीजेपी युवा मोर्चा ने खारिज किया है. युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल ने पहाड़ी आर्मी के प्रदेश अध्यक्ष हरीश रावत की ओर से उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी में उनके पत्नी की गलत तरीके से नौकरी पाने को लेकर सोशल मीडिया में वायरल हो रहे पत्र और मीडिया में दिए बयान को फर्जी करार दिया है. कुंदन लटवाल का कहना है कि उनकी राजनीतिक छवि को धूमिल करने के लिए पहाड़ी आर्मी के अध्यक्ष हरीश रावत ने यह काम किया है.

जानिए क्या था मामलाः दरअसल, बीती 10 सितंबर को उत्तराखंड पहाड़ी आर्मी संगठन (Uttarakhand Pahari Army Organization) ने हल्द्वानी में प्रेस वार्ता कर उत्तराखंड मुक्त विद्यालय में नियुक्तियों में गड़बड़ी (UOU Recruitment Scam) का आरोप लगाया था. साथ ही मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की थी. पहाड़ी आर्मी के प्रदेश अध्यक्ष हरीश रावत (Pahari Army State President Harish Rawat) ने बीजेपी और आरएसएस से जुड़े कार्यकर्ताओं के रिश्तेदारों व करीबियों को ओपन यूनिवर्सिटी के विभिन्न पदों पर दी गई नियुक्तियों पर सवाल उठाए थे.

हरीश रावत का आरोप था कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में कुलपति और उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत के इशारे पर बीजेपी (BJP), आरएसएस (RSS) और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के अलावा कांग्रेस सरकार में कई बड़े पदाधिकारियों एवं करीबियों को उनकी योग्यता से बड़े पदों पर नियुक्तियां दी गई है. जिसमें बीजेपी युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल की पत्नी सुमन सिल्कवाल (Kundan Latwal wife Job in UOU) का भी नाम लिया था. उनका आरोप था कि सुमन मुक्त विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर तैनात हैं, लेकिन उनके पास असिस्टेंट प्रोफेसर की जो योग्यता होनी चाहिए वो नहीं है.

यूओयू में पत्नी की नौकरी पर क्यो बोले कुंदन लटवालः वहीं, हरीश रावत के आरोपों पर कुंदन लटवाल ने कहा कि साल 2019 से उनके पत्नी सुमन की अस्थाई नौकरी उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में अकादमिक परामर्शदाता के रूप में है. जबकि, पहाड़ी आर्मी के अध्यक्ष हरीश रावत की ओर से असिस्टेंट प्रोफेसर दर्शाकर सोशल मीडिया में फर्जी तरीके से वायरल किया जा रहा है. साथ ही इसको लेकर कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसौनी (Congress State Spokesperson Garima Dasauni) ने भी एक ट्वीट किया है, जो कि गलत है. ऐसे में वो तत्काल अपना ट्वीट डिलीट करें.

हरीश रावत मांगे माफी, मानहानि का मुकदमा कराएंगे दर्जः कुंदन लटवाल ने कहा कि पहाड़ी आर्मी के हरीश रावत ने अगर 10 दिन के भीतर सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगी तो वो उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा (Defamation Suit Against Harish Rawat) दर्ज कराएंगे. उन्होंने कहा कि क्या राजनीतिक व्यक्ति की पत्नी को नौकरी का अधिकार (Political Leader Wife JOB) नहीं है? इस सब से मेरी पत्नी को भी मानसिक रूप से बहुत कष्ट हुआ है. हरीश रावत को उनके वकील की ओर से लीगल नोटिस जारी किया गया है.

Share this story