प्रदेश सरकार पर जमकर बरसे कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा
प्रदेश सरकार पर जमकर बरसे कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा

मसूरी : उत्तराखंड में भर्ती घोटाले को लेकर कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने प्रदेश सरकार पर जमकर हमला बोला है. मसूरी में पत्रकारों से वार्ता करते हुए प्रदीप टम्टा ने कहा कि कांग्रेस भर्ती घोटाले को लेकर लगातार सीबीआई जांच की मांग कर रही है, लेकिन प्रदेश सरकार इस पर गंभीर नहीं है. उन्होंने कहा कि विधानसभा में हुए भर्ती घोटाले की जांच तो विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी द्वारा एक कमेटी बनाकर कराई जा रही है, लेकिन उससे कुछ होने वाला नहीं है.

प्रदीप टम्टा ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा अधीनस्थ चयन आयोग में हुए महा भर्ती घोटाले से लोगों का ध्यान भटकाने को लेकर विधानसभा की जांच कराई जा रही है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में सभी बेरोजगार और राजनीतिक संगठन एक स्वर में सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार इसके लिए तैयार नहीं है. प्रदीप टम्टा ने आरोप लगाया कि आयोग में लाखों रुपए लेकर पेपर बेचे गए. सरकारी गोपनीयता को भी भंग करने का काम किया गया है.

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (Uttarakhand Subordinate Service Selection Commission) में चाहे वह बड़े अधिकारी हों चाहे व सफेदपोश, उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग में भर्ती घोटाले को लेकर सीबीआई जांच करने में आनाकानी क्यों कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस लगातार पूरे घोटाले में सीबीआई जांच के साथ हाईकोर्ट के जज की मॉनिटरिंग कराने की मांग कर रही है, जिससे कि तय समय पर जांच पूरी हो सके.

कांग्रेस की 'भारत जोड़ो यात्रा': सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा कि देशभर में राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा निकाली जा रही है, जिसमें देश के हर कोने से कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ आमजन भारी संख्या में राहुल गांधी के साथ यात्रा कर रहे हैं और देश को जोड़ने का आह्वान कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस द्वारा भारत जोड़ो यात्रा निकाली जा रही है, क्योंकि देश में कुछ शक्तियां भारत को तोड़ने का काम कर रही हैं.

मोदी सरकार ने देश को नफरत और घृणा के सिवा कुछ नहीं दिया है. लोगों को आपस में बांटने का काम किया जा रहा है. पिछले 8 सालों में समाज के सबसे कमजोर तबकों पर अत्याचार सबसे ज्यादा बढ़े हैं. मोदी सरकार भारत के संविधान को बदलकर लोगों को धर्म के नाम पर बांट रही है. मुस्लिमों को उनकी देशभक्ति दिखानी पड़ रही है. उन्होंने कहा कि देश सभी लोगों का है, जिसे जोड़ने का प्रयास कांग्रेस द्वारा किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि ED, सीबीआई, सुप्रीम कोर्ट, चुनाव आयोग जैसी सर्वोच्च सस्थाएं सरकार के दबाव में काम कर रही हैं. इसका उदाहरण है जम्मू कश्मीर की धारा 370 हटाए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट केस चल रहा है, जिसका अभी तक कोई निर्णय नहीं हो पाया. ईडब्ल्यूएस मामले में अभी तक बात नहीं हो पा रही है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा सफल हो रही है. इसका परिणाम 2024 में देखने को मिलेगा.

दलित उत्पीड़न पर टम्टा: सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा कि उत्तराखंड में दलित उत्पीड़न की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं. अल्मोड़ा में एक नौजवान को बड़ी बेरहमी से मार दिया जाता है. उत्तरकाशी में नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म किया जाता है और दुष्कर्म करने होने के बाद मां और बच्ची लगातार न्याय की गुहार लगा रहे हैं. 20 घंटे तक पुलिस द्वारा मामला की दर्ज नहीं किया गया. पीड़ित बच्ची के 164 के बयान आज तक दर्ज नहीं किए गए हैं. यह प्रशासनिक संवेदनहीनता को दर्शाता है.

मुख्यमंत्री द्वारा भी दोनों घटनाओं को लेकर कुछ नहीं कहा गया है, जिससे साफ है कि सरकार दलित उत्पीड़न को लेकर कितनी संवेदनशील है. उन्होंने कहा कि वो प्रदेश में दलितों के साथ हो रहे अत्याचार के खिलाफ आगे नहीं आए हैं. हाल में अल्मोड़ा और उत्तरकाशी में हुई घटनाओं को लेकर दलित समुदाय द्वारा किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दिख रही है. यह एक दुखद पहलू है.

Share this story