जिलाधिकारी अभिषेक रुहेला ने यमुनोत्री धाम की व्यवस्थाओं को लेकर किया निरीक्षण, युद्ध स्तर पर कार्य करने के दिये निर्देश
जिलाधिकारी अभिषेक रुहेला ने यमुनोत्री धाम की व्यवस्थाओं को लेकर किया निरीक्षण

उत्तरकाशी (रोबिन वर्मा)। चारधाम यात्रा के सफल संचालन को लेकर शुक्रवार को जिलाधिकारी अभिषेक रुहेला ने यमुनोत्री धाम में यात्रा व्यवस्थाओं का स्थलीय निरीक्षण कर जायजा लिया। जिलाधिकारी ने यमुनोत्री पैदल मार्ग पर बरसात में उत्पन्न छोटी-छोटी समस्याओं एवं आधारभूत सुविधाओं को सुदृढ़ करने के निर्देश सम्बंधित अधिकारियों को दिए। तथा युद्ध स्तर पर कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि बरसात के बाद आगामी दिनों में चारधाम यात्रा बढ़ने का अंदेशा है।

इसलिए सभी विभाग अपने अपने विभागीय कार्यों को ससमय पूर्ण करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने जानकीचट्टी में घोड़ा,खच्चर पार्किंग के साथ ही पैदल मार्ग पर नियमित सफाई व्यवस्था को दुरुस्त रखने एवं सिंगल यूज प्लास्टिक,जैविक-अजैविक कूड़ा का उचित निस्तारण करने के निर्देश अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को दिए। यात्रियों एवं श्रदालुओं के लिए पैदल मार्ग पर स्वच्छ पीने के पानी की आपूर्ति यथा समय सुचारू रखने को कहा।

यात्रा मार्ग पर समस्त शौचालयों में पानी की उपलब्धता एवं नियमित स्वच्छता का विशेष ध्यान रखने को कहा। जिलाधिकारी ने भंगेलीगाड़ में निर्माणाधीन पैदल मार्ग को अगले तीन दिन के भीतर आवागमन के लिए सुचारू करने के निर्देश लोक निर्माण विभाग को दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि पैदल मार्ग पर बरसात में जहां-जहां फिसलन हो रही है वहां पर चुना आदि डाला जाए। ताकि पैदल मार्ग से सुरक्षित आवगमन हो सके।बरसात में कतिपय स्थानों में बाधित विद्युत व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ ही पैदल मार्ग पर प्रकाश की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश विद्युत विभाग को दिए। स्वास्थ्य विभाग को पैदल मार्ग पर पर्याप्त ऑक्सीजन दवाई आदि रखने के साथ ही एफएमआर और यात्रा पड़ाव में पर्याप्त डॉक्टर की तैनाती यथा समय रखने को कहा।

जिलाधिकारी ने कहा कि दोनों धाम में शुरुआत में यात्रियों का आवगमन बड़ी संख्या में हुआ। मानसून सीजन के बाद वापस आगामी दिनों में यात्रियों की बढ़ने की सम्भावना है। यात्रा मार्ग पर बरसात में जहां जहां छोटी-छोटी कमियां उत्तपन्न हुई है उसे ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है। इस सम्बंध में सम्बंधित अधिकारियों को युद्ध स्तर पर कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये है। इस दौरान   

मुख्य पशुचिकित्साधिकारी भरत दत्त ढौंडियाल के  द्वारा जिला अधिकारी को अवगत कराया गया की  पशुपालन विभाग के डॉक्टर एवं अन्य विभाग के कर्मचारियों यमुनोत्री धाम में यात्रा के दौरान ड्यूटी पर रहते  है उनके  लिए अस्थाई या   स्थाई   ट्रांजिस्ट हॉस्टल  बनाया जाए, इस संबंध में जिला अधिकारी के द्वारा एसडीम बड़कोट एवं तहसीलदार बड़कोट को भूमि चिन्हित करने के निर्देश दिये। 

निरीक्षण के दौरान एसडीएम देवानन्द शर्मा, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी रमेशचंद्र आर्य, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत श्याम लाल, पर्यटन अधिकारी सहित अन्य अधिकारी एवं मंदिर समिति के पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Share this story