उत्तराखंड : ढील के साथ आज आगे बढ़ेगा कोविड कर्फ्यू, बंद पड़े जिम और कोचिंग सेंटरों को खोलने की मिल सकती है अनुमति

देहरादून। उत्तराखंड सरकार मंगलवार से राज्य में बंद जिम और कोचिंग केंद्रों को सशर्त खोलने की अनुमति दे सकती है। मसूरी व नैनीताल व अन्य प्रमुख पर्यटक स्थलों को मंगलवार और बुधवार को बंद रखा जा सकता है। ये पर्यटक स्थल वीकेंड (शनिवार और रविवार को) पर खुलेंगे और यहां इन दोनों दिन पर्यटकों की आवाजाही हो सकेगी।

सरकार के स्तर पर कोविड कर्फ्यू में इस सप्ताह दी जाने वाली ढील पर सहमति बन गई है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण सोमवार को कोविड कर्फ्यू के संबंध में मानक प्रचालन प्रक्रिया जारी कर देगा।

उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक, इस सप्ताह से राज्य के सभी कोचिंग केंद्रों व जिम को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी जा सकती है। इसके अलावा बाजारों के खुलने का समय सुबह आठ बजे से शाम सात बजे तक कर दिया जाएगा।

प्रमुख पर्यटक स्थलों को छोड़कर राज्य के बाकी इलाकों में शनिवार और रविवार को छोड़कर पांच दिन बाजार खोले जा सकेंगे। रविवार को मानक प्रचालन प्रक्रिया जारी नहीं हो सकी। अब यह सोमवार को जारी होगी।

प्रदेश में धीमी पड़ी कोरोना टीकाकरण की रफ्तार

प्रदेश में छह दिन के बाद कोरोना टीकाकरण की रफ्तार धीमी पड़ गई है। रविवार को प्रदेश भर में 570 केंद्रों पर कोरोना वैक्सीन लगाने का कार्य बंद रहा। मात्र 280 केंद्रों पर 23917 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि पल्स पोलियो अभियान के कारण कम केंद्रों पर टीकाकरण किया गया। सोमवार को केंद्र से प्रदेश केे 1.20 लाख वैक्सीन की डोज मिलेगी।

प्रदेश में रविवार को 5 साल तक के नौनिहालों को पल्स पोलियो की खुराक दी गई। 21 जून से प्रदेश में लगातार एक साल से अधिक लोगों को प्रतिदिन कोविड वैक्सीन लगाई जा रही थी लेकिन रविवार को 280 केंद्रों पर ही कोविड वैक्सीनेशन किया गया। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि वैक्सीन को कोई कमी नहीं है। जबकि प्रदेश में खास कर 18 से 44 आयु वर्ग के लिए लोगों को वैक्सीन की पहली डोज नहीं मिल रही है।

राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डा. कुलदीप सिंह मर्तोलिया ने बताया कि कोविड वैक्सीन की कमी नहीं है। रविवार को पल्स पोलियो अभियान के कारण प्रदेश में कम केंद्रों पर टीकाकरण किया गया। सोमवार को केंद्र से 1.20 वैक्सीन की डोज प्रदेश को मिल जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.