शीर्षक : हा मैं भी पत्रकार हूँ

कलम का सिपाही हूं मैं लोकतंत्र बनाए रखने में भागीदार हूं !
सत्य निष्ठा से लिखता हूं खबरें अखबार में हां मैं पत्रकार हूं !

झूठ को उजागर करना है काम मेरा सच का में पहरेदार हूं !
बुराई का दुश्मन और अच्छाई का दोस्त हु में हा मैं पत्रकार हूं !

सुख-दुख का संदेश लाता हूं रोज अपने काम से ईमानदार हूं !
भ्रष्टाचार और घोटाले उजागर करता हूं मैं हां मैं पत्रकार हूं !

अक्सर छाप देता हूं खबर जन्म मृत्यु की काम से वफादार हूं !
नहीं डरता नेता अभिनेता और अधिकारी से हां मैं पत्रकार हूं !

भारत मां की सेवा करना कर्तव्य मेरा दिखता मैं आर पार हूं !
जिंदा हूं जब तक लिखता रहूंगा सच्चाई से हां मैं पत्रकार हूं !

लेखक – सामाजिक चिंतक
समाधान समाजिक शक्ति संस्था- उपाध्यक्ष
अमित राजपूत, उत्तर प्रदेश

Leave A Reply

Your email address will not be published.