वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व विधायक अंबरीष कुमार का निधन

- कनखल शमशान घाट पर पुत्री ने दी मुखाग्नि - कांग्रेस समेत विभिन्न दलों के पदाधिकारी व हजारों कार्यकर्ता रहे मौजूद

हरिद्वार। वरिष्ठ कांग्रेस नेता पूर्व विधायक अंबरीष कुमार का मंगलवार की देर रात उनके ज्वालापुर स्थित निवास पर निधन हो गया। उनके निधन से कांग्रेस कार्यकर्ताओं व उनके प्रशंसकों में शोक की लहर दौड़ गयी। हरिद्वार में राजनीति के बड़े स्तंभ के रूप में पहचान रखने वाले 72 वर्षीय अंबरीष कुमार लंबे समय से बीमार चल रहे थे। बुधवार को कनखल शमशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनकी पुत्री प्रियवंदा ने उन्हें मुखाग्नि प्रदान की।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कनखल शमशान पहुंचकर अंबरीष कुमार को श्रद्धांजलि दी। शोक व्यक्त करते हुए प्रीतम सिंह ने कहा कि उत्तराखंण की राजनीति का चाण्क्य चला गया। किसानो, श्रमिकों की समस्या हो या राजकीय समस्या हो अंबरीष कुमार हमेशा स्तम्भ की तरह आर पार की लड़ाई लड़ते थे और कामयाब होते थे। उनके निधन से हरिद्वार में तमाम कांग्रेस कार्यकर्ता अपने आप को असहाय महसूस कर रहे हैं। उनके निधन से कांग्रेस को जो क्षति हुई है।

निकट भविष्य में उसकी पूर्ति संभव नहीं है। मंगलौर विधायक काजी निजामुद्दीन, भगवानपुर विधायक ममता राकेश, भाजपा विधायक प्रदीप बत्रा, संजय गुप्ता, वरिष्ठ कांग्रेस नेता धीरेंद्र प्रताप, पूर्व पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, कांग्रेस प्रदेश महासचिव संजय पालीवाल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राव आफाक अली, कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, पूर्व केंद्रीय मंत्री डा.रमेश पोखरियाल निशंक, मेयर अनिता शर्मा,महानगर कांग्रेस अध्यक्ष संजय अग्रवाल, श्रमिक नेता मुरली मनोहर, देहरादून अध्यक्ष लालचंद शर्मा, परवादून अध्यक्ष संजय किशोर, पूर्व पालिका अध्यक्ष प्रदीप चौधरी, पूर्व मेयर मनोज गर्ग, कांग्रेस ग्रामीण जिला अध्यक्ष धर्मपाल सिंह, पूर्व विधायक शहजाद, पूर्व राज्य मंत्री राम सिंह सैनी, ज्वालापुर कांग्रेस नगर अध्यक्ष यशवन्त सैनी, मायापुर ब्लॉक अध्यक्ष रवि कश्यप, कनखल ब्लॉक अध्यक्ष शुभम अग्रवाल, मध्य हरिद्वार ब्लॉक अध्यक्ष शैलेंद्र सिंह, कैलाश प्रधान, चौधरी बलजीत सिंह, एडवोकेट अरविन्द शर्मा, राजबीर सिंह चौहान, जटाशंकर श्रीवास्तव, विभाष मिश्रा, बीएस तेजियांन, मेयर प्रतिनिधि अशोक शर्मा, राजन मेहता, धर्मपाल ठेकेदार, मास्टर जगपाल सिंह सैनी,राजीव चौधरी, नमन अग्रवाल, पार्षद महावीर वशिष्ठ, पार्षद साहबुद्दीन, पार्षद इसरार अहमद, प्रदेश महासचिव सतीश कुमार, पूर्व जिला अध्यक्ष विकास चौधरी, रचित अग्रवाल, राजबीर सिंह, बलराम राठौड़, पूर्व राज्यमंत्री नईम कुरैशी, ताहिर हसन, पार्षद मेहरबान खान, पार्षद राजीव भार्गव, ठाकुर सुरेश सिंह, शिव कुमार कश्यप, आशीष शर्मा, रोशन लाल सदस्य जिला पंचायत, अमरदीप रोशन,वरुण बालियान, नितिन तेशवर, हिमांशु बहुगुणा, रवीश भटीजा, प्रदीप अग्रवाल पीसीसी, महेश प्रताप राणा, वैध एमआर शर्मा, डा.दिनेश पुंडीर, जितेंद्र सिंह, सत्येंद्र वशिष्ठ, वसीम सलमानी, पार्षद सोहेल कुरेशी, जफर अब्बासी, पार्षद अनुज सिंह, जे.पी.सिंह, पार्षद उदयवीर चौहान, जटाशंकर श्रीवास्तव, हरजीत सिंह, जितेंद्र विद्याकुल, सुभाष कपिल, गुलशन नैयर, आरबीएल वर्मा, सोम चौहान, मनोज महंत, नीरज मंगल, नितिन मंगल, पुनित गर्ग, सतीश जैन, नावेज अंसारी, डा.विशाल गर्ग, कार्तिक शर्मा, हाजी रफी खान, सतीश दावड़े, राजेंद्र भंवर, सुनील सिंह, भूमेश श्रीकुंज, छत्रपाल चौहान, संजीव नैयर, चोखेलाल, पार्षद पुत्र पुनीत कुमार, फैयाज अली, विशाल राठौर, व्यापार मंडल अध्यक्ष संजीव चौधरी, सीओ सिटी अभय प्रताप, सफाई कर्मचारी आयोग के पूर्व अध्यक्ष किरणपाल वाल्मिीकि, सदस्य पूनम वाल्मिीकि, पुनीत गोयल, संजीव नैय्यर, कमल बृजवासी, शाहनवाज कुरेशी, यशपाल राणा, सत्येंद्र वशिष्ठ, सनी मल्होत्रा, संदीप अग्रवाल, बीपी चौहान, हरिराम कुमार, सुभाष चंद, वसीम सलमानी, नीटू शर्मा, राजेंद्र भारद्वाज, आशीष भारद्वाज, युवा भारत साधु समाज के पदाधिकारी, गंगा सभा अध्यक्ष व महामंत्री, भाजपा नेता नरेश शर्मा, नगर निगम मे नेता प्रतिपक्ष सुनील अग्रवाल, कांग्रेस व बीजेपी के पार्षदों सहित तमाम राजनीतिक व सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

हरिद्वार में भाई जी के नाम से विख्यात पूर्व विधायक व कांग्रेसी नेता अम्बरीष कुमार के राजनीतिक जीवन का लंबा इतिहास रहा है। अम्बरीष कुमार उत्तर प्रदेश विधानसभा मे सर्वश्रेष्ठ विधायक का पुरुस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। अमरीश कुमार 2019 के लोकसभा चुनाव में भी हरिद्वार लोकसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े थे। 50 साल के राजनीतिक जीवन में 72 वर्षीय अम्बरीष कुमार ने आठ चुनाव लड़े हैं।

हरिद्वार में उनकी राजनीतिक ज़मीन कितनी मजबूत रही है, यह इससे पता चलता है कि आठ में से 6 चुनावों में वे दूसरे नंबर पर रहे। कांग्रेस से शुरू हुआ उनका राजनीतिक सफऱ जनता दल और समाजवादी पार्टी होते हुए फिर से उन्हें कांग्रेस में ले आया। हरीश रावत के बाद वह उत्तराखंड कांग्रेस के ऐसे दूसरे नेता हैं।

जिन्होंने इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और राहुल गांधी तीनों के नेतृत्व में चुनाव लड़ा है। हरिद्वार के कपड़ा व्यापारी परिवार में जन्मे अम्बरीष कुमार ने 1971 में इंदिरा गांधी से प्रभावित होकर कांग्रेस का हाथ थामा था। सालभर के भीतर ही 1972 में वे हरिद्वार के यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बने। कांग्रेस के प्रति झुकाव उन्हें परिवार से विरासत में मिला था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.