इंग्लैंड से हाल ही में लौटी काशीपुर निवासी 39 वर्षीय महिला की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

रुद्रपुर : इंग्लैंड से लौटी उत्तराखंड के काशीपुर निवासी एक महिला की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अब जीनोम सीक्वेंस टेस्ट के लिए महिला का सैंपल एनसीडीसी लैब दिल्ली या वायरोलॉजी रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ पुणे भेजा जाएगा। वहां से रिपोर्ट आने के बाद ही कोरोना के नए रूप का पता चल सकेगा।

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इंग्लैंड और अन्य देशों से ऊधमसिंह नगर लौटे 15 लोगों के शुक्रवार को आरटीपीसीआर से सैंपल लेकर जांच के लिए सुशीला अस्पताल हल्द्वानी भेजे थे। शनिवार शाम काशीपुर निवासी 39 वर्षीय महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई,  जबकि शेष 14 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई।

एसीएमओ डॉ. हरेंद्र मालिक ने बताया कि पॉजिटिव महिला के सैंपल में कोरोना के नए रूप की जांच के लिए अब जीनोम सीक्वेंस टेस्ट किया जाएगा। सुशीला तिवारी अस्पताल से सैंपल जांच के लिए पुणे या दिल्ली भेजा जा सकता है।

अब सैंपल की स्ट्रेन की जाएगी। जीनोम सीक्वेंस टेस्ट में करीब एक सप्ताह का समय लग सकता है। उन्होंने बताया कि महिला को अस्पताल में अलग वार्ड में रखा जाएगा। साथ ही कांटेक्ट ट्रेसिंग कर महिला के परिवार एवं अन्य करीबियों के सैंपल लिए जाएंगे।

पूर्व ब्लॉक प्रमुख को हुआ कोरोना

पूर्व ब्लॉक प्रमुख आनंद आर्य (51) कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उन्हें कोविड अस्पताल रुद्रपुर रेफर किया है। नागरिक चिकित्सालय के प्रभारी कोरोना नोडल अधिकारी डॉ. वीपी सिंह ने बताया कि रैपिड एंटीजन टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। आर्य की हालत गंभीर देखते हुए उन्हें कोविड अस्पताल रुद्रपुर भेजा गया है।

सात दिन में एक लाख ज्यादा सैंपल जांच का रिकॉर्ड

प्रदेश में कोरोना काल के 287 दिनों में पहली बार सैंपल जांच का नया रिकॉर्ड बना है। सात दिन में एक लाख से ज्यादा लोगों की कोविड जांच की गई। इसमें से 3365 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। संक्रमितों की तुलना में 3828 मरीजों ने कोरोना को मात दी है।

प्रदेश में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 15 मार्च को मिला था। तब से लेकर कोरोना काल के 287 दिन बीत गए हैं, लेकिन पहली बार सात दिन में 108438 कोविड सैंपलों की जांच हुई है। इसमें 3365 संक्रमित मिले हैं। ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 3828 है। 68 मरीजों की मौत हुई है।

कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सरकार की ओर सैंपल जांच बढ़ाने के लिए निर्देश दिए गए थे। जिसके बाद जिलों से सैंपल जांच बढ़ाई गई। हालांकि 13 हजार से अधिक सैंपलों की जांच प्रतीक्षा में है। प्रदेश में अब तक 17 लाख से अधिक सैंपल जांच की गई।

इसमें 89 हजार से अधिक संक्रमित मामले मिले हैं। प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ. पंकज कुमार पांडेय का कहना है कि पहले की तुलना में प्रदेश में सैंपल जांच बढ़ी है। विभाग का प्रयास है कि जिस व्यक्ति में कोविड के संदिग्ध लक्षण दिखाए देते हैं, उनकी आरटीपीसीआर टेस्ट कराएं जाएं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.