उत्तराखण्ड पुलिस और IIT Roorkeeने देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2022 के दूसरे संस्करण का किया आयोजन
उत्तराखण्ड पुलिस और IIT Roorkee ने देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2022 के दूसरे संस्करण का किया आयोजन

रुड़की : इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी रूड़की (IIT Roorkee) द्वारा तकनीकी प्रदर्शनों की श्रृंखला में संस्थान ने 3 सितम्बर से 6 सितम्बर 2022 के बीच IIT Roorkee में चार दिवसीय ‘देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2022’ के आयोजन के लिए आईहब दिव्य संपर्क और उत्तराखण्ड पुलिस के साथ साझेदारी की। ‘देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2022’ के ग्राण्ड फिनाले के दौरान साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में आपसी सहयोग के लिए इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी डेवलपमेन्ट एजेन्सी (डिपार्टमेन्ट ऑफ इन्फोर्मेशन एण्ड साइन्स टेक्नोलॉजी), उत्तराखण्ड सरकार; स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तराखण्ड (गृह विभाग, उत्तराखण्ड पुलिस), उत्तराखण्ड सरकार और IIT Roorkee, उत्तराखण्ड के बीच एक समझौता भी हुआ। 

क्षमता निर्माण एवं ज्ञान विनियम, साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास, साइबर सुरक्षा, थ्रेट इंटेलीजेन्स, अनुसंधान एवं विकास के लिए साइबर सिक्योरिटी सेंटर फॉर एक्सीलेन्स, तकनीकी समाधानों, साइबर सिक्योरिटी सेंटर ऑफ एक्सीलेन्स, नीतिगत ढांचें के विकास, रियल टाईम व्यवहारिक अनुभव, छात्र इंटर्नशिप एवं जागरुकता जैसे पहलुओं को ध्यान में रखते हुए यह साझेदारी की गई। 

‘देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2022’ में हिस्सा लेने के लिए देश भर से बड़ी संख्या में प्रतिभागी IIT Roorkee पहुंचे थे। 1700 छात्रों की 810 टीमों ने कार्यक्रम के लिए पंजीकरण किया, जिनमें से 40 टीमें ग्राण्ड फिनाले तक पहुंचीं। गृह मंत्रालय, केन्द्रीय एजेन्सियों एवं राज्य पुलिस के अधिकारियों ने भी आयोजन में हिस्सा लिया। साइबर अपराधों की जांच में आने वाली बाधाओं को दूर करने, साइबर फोरेंसिक के गहन विश्लेषण तथा राज्य में साइबर सम्पत्तियों के संरक्षण के लिए इस प्रतियोगिता को डिज़ाइन किया गया था। 48 घण्टे की हैकाथॉन के दौरान टीमों का मूल्यांकन किया गयां

4 दिवसीय कार्यक्रम का उद्घाटन 3 सितम्बर 2022 को दोपहर 12ः30 बजे एल2-103, संस्थान के एपीजे अब्दुल कलाम हॉल में हुआ, समापन समारोह का आयोजन संस्थान में एमएसी सभागार में 6 सितम्बर 2022 को किया गया। श्री अमित सिन्हा, आईपीएस, एडीजी, उत्तराखण्ड उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि थे। श्री अशोक कुमार, आईपीएस, डीजीपी उत्तराखण्ड ने समापन समारोह की अध्यक्षता की। डीजीपी उत्तारखण्ड और आईआईटी रूड़की के डायरेक्टर प्रोफेसर अजीत कुमार चतुर्वेदी ने हैकाथॉन को विजेताओं को सम्मानित किया। 

चार दिवसीय कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले अन्य गणमान्य दिग्गजों में श्री सेंथिल अवुदाई कृष्णा राज एस, डीआईजी, एसटीएफ/ पीएण्डएम, उत्तराखण्ड पुलिस; श्री बरिन्दर सिंह, डीआईजी, उत्तराखण्ड पुलिस; डॉ मुरुगेसन, एडीजी, उत्तराखण्ड; प्रोफेसर अजीत कुमार चतुर्वेदी, डायरेक्टर, आईआईटी रूड़की; प्रोफेसर मनोरंजन परीदा, डिप्टी डायरेक्टर, आईआईटी रूड़की; प्रोफेसर अक्षय द्विवेदी, डीन, एसआईआईसी, आईआईटी रूड़की; प्रोफेसर सतीश कुमार पेड्डोजु, कम्प्युटर साइंस डिपार्टमेन्ट, आईआईटी रूड़की और श्री अंकुश मिश्रा, डिप्सी एसपी, एसटीएफ, उत्तराखण्ड पुलिस शामिल थे। 

आईआईटी रूड़की कार्यक्रम के लिए नॉलेज पार्टनर और कोलाबोरेटिंग पार्टनर है। देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2.0 के पिछले संस्करण का आयोजन राष्ट्रीय स्तर पर किया गया था, जिसे भारत सरकार के गृह मंत्रालय एवं विभिन्न राज्यों ने खूब सराहा। प्रतियोगिता का विस्तृत विवरण आधिकारिक वेबसाईट https://www.iitr.ac.in/dch/पर उपलब्ध है। 

माननीय प्रधानमंत्री हमेशा से हैकाथॉन द्वारा तकनीकी समाधानों की खोज पर ज़ोर देते रहे हैं। स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन ऐसा ही एक आयोजन था, जिसमें देश भर से छात्रों ने हिस्सा लिया था। इसी तरह उत्तराखण्ड पुलिस ने स्मार्ट पुलिसिंग के लक्ष्य को हासिल करने के लिए उत्तराखण्ड राज्य में साइबर हैकाथॉन का आयोजन किया। यह ऐसा करने वाला उत्तरी भारत का पहला राज्य बन गया। इसी कड़ी में आईआईटी रूड़की ने उत्तराखण्ड पुलिस के लिए देवभूमि साइबर हैकाथॉन 2022 के दूसरे संस्करण का आयोजन किया है। 

इस साझेदारी के बारे में बात करते हुए श्री सेंथिल अवुदाई कृष्णा राज, एस डीआईजी, एसटीएफ/ पीएण्डएम, उत्तराखण्ड पुलिस ने कहा, ‘‘एसटीएफ, आईटीडीए और आईआईटी रूड़की के बीच समझौता ज्ञापन का मुख्य उद्देश्य साइबर सुरक्षा के लिए सख्त मॉडलों के विकास हेतु मार्गदर्शन, प्रशिक्षण गतिविधियों, क्षमता निर्माण, अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा देना है।’

इस मौके पर श्री अमित सिन्हा, आईपीएस, एडीजी, उत्तराखण्ड पुलिस ने कहा, ‘‘उत्तराखण्ड साइबर पुलिस ने पिछले 1-2 सालों में सराहनीय कार्य किया है। इसी उत्साह के साथ अब हम ऐसे आधुनिक तकनीकी समाधान खोजना चाहते हैं जो स्मार्ट पुलिसिंग को नया आयाम दे सकें। हमने साइबर सुरक्षा के लिए सूचना एवं क्षमता निर्माण को बढ़ावा देने के लिए आईआईटी रूड़की के साथ साझेदारी की है। टीमों को ऐसे व्यवहारिक विचारों पर फोकस करना चाहिए जिन्हें अपनाकर उत्तराखण्ड पुलिस समाज कल्याण को सुनिश्चित कर सके। सभी प्रतिभागियों को मेरी ओर से शुभकामनाएं।’’ 

प्रोफेसर अजीत के चतुर्वेदी, डायरेक्टर, आईआईटी, रूड़की ने कहा, ‘‘देवभूमि साइबर हैकाथॉन एक ऐसा मंच है जो तकनीक की मदद से वास्तविक जीवन की समस्याओं का हल करता हैं। आईआईटी रूड़की के लिए खुशी की बात है कि इसे साइबर स्पेस में क्षमता निर्माण के लिए आईटीडीए और उत्तराखण्ड पुलिस के साथ साझेदारी का मौका मिला है।’

अपने सम्बोधन में श्री अशोक कुमार, आईपीएस, डीजीपी, उत्तराखण्ड ने कहा, ‘‘राज्य में स्मार्ट पुलिसिंग की हमारी पहल साइबर अपराधां को कम करने में मदद करेगी, हमारे इन्हीं प्रयासों के चलते नीति आयोग द्वारा 2021 मेंज ारी स्थायी विकास लक्ष्यों की इंडिया इंडैक्स में हमें शीर्ष पायदान पर रखा गया। लेकिन तकनीक पर बढ़ती निर्भरता के साथ साइबरसुरक्षा एक बड़ा मुद्दा बन गई है। मैं आईआईटी रूड़की के प्रति आभारी हूं, जिन्होंने हैकाथॉन के आयोजन के लिए उत्तराखण्ड पुलिस के साथ साझेदारी की। ताकि किसी भी संभावी खतरे को समय रहते पहचान की इस पर कार्रवाई की जा सके। इसके अलावा साइबर सुरक्षा में आपसी सहयोग के साथ आईआईटी रूड़की और आईटीडीए भी भारत सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत स्वदेशी सॉफ्टवेयर टूल्स के निर्माण पर काम करेंगे। मैं सभी प्रतिभागियों और विजेताओं को बधाई देना चाहूंगा जिन्होंने साइबर सुरक्षा की खामियों को दूर करने के लिए जोश और उत्साह का प्रदर्शन किया है।

विजेता
छात्र
टीम ब्रेकप्वाइंट
1. अरविंद हरिहरन मो
2. गौतम जी
श्रीकृष्णा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी

प्रोफेशनल 
टीम फॉरएवर यंग
1.श्रीकृष्ण
2. स्वास्तिक
ओरेकल इंडिया

रनर अप
टीम टेसरैक्ट
1. राज पटनायक
2. अमन सागर
3. सोवित पटेल
4. मोनालिसा बेहरा
एनआईटी राउरकेला


सेकंड रनर अप
टीम एयरो फाल्केंस
1. तिरुवरुसेलवन कु
2. हरीश राघवेंद्र टी
3. दिनेश कुमार सा
बीआईटी - सत्यमंगलम

Share this story