ग्रीनसेल मोबिलिटी ने राष्ट्रीय ई-बस प्रोग्राम चरण-1 के अंतर्गत सी.ई.एस.एल. से इलेक्ट्रिक बसों का ऑर्डर प्राप्त किया

ग्रीनसेल मोबिलिटी ने राष्ट्रीय ई-बस प्रोग्राम चरण-1 के अंतर्गत सी.ई.एस.एल. से इलेक्ट्रिक बसों का ऑर्डर प्राप्त किया

देहरादून : पूरे भारत में एक प्रमुख साझा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी कंपनी, ग्रीनसेल मोबिलिटी लिमिटेड (ग्रीनसेल) को 570 इलेक्ट्रिक बसों के लिए परिवहन विभाग, एन.सी.टी. दिल्ली सरकार से ऑर्डर मिला है। राष्ट्रीय ई-बस प्रोग्राम (एन.ई.बी.पी.) के अंतर्गत भारत सरकार के उपक्रम, कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज़ लिमिटेड (सी.ई.एस.एल.) द्वारा निविदा जारी की गई थी। सकल लागत अनुबंध (जी.सी.सी.) के अंतर्गत 6,465 ई-बसों के लिए यह कॉन्ट्रैक्ट भारत में ई-बसों के लिए अब तक की सबसे बड़ी निविदा है।

सी.ई.एस.एल. द्वारा जारी निविदा में ग्रीनसेल ने 1,900 12-मीटर लो फ्लोर ई-बसों के लिए बोली लगाई थी। इस संख्या के लिए सबसे अधिक बोलियाँ लगाई गई थीं और इसमें प्रतिस्पर्धी सबसे अधिक थी, जिसमें ग्रीनसेल विजेता के रूप में उभरी थी, जिसमें अगले दो वर्षों में 570 बसों का आवंटन सुनिश्चित किया जाना था। यह बोली ग्रीनसेल के बी2जी पोर्टफोलियो का 60% से अधिक विस्तार करती है और दिल्ली सरकार जैसी प्रतिष्ठित समकक्ष निकाय के साथ पूरे भारत में ग्रीनसेल की उपस्थिति का विस्तार हो रहा है।

ग्रीनसेल का लक्ष्य सत्यापित वैश्विक अनुभव वाली, ई-मोबिलिटी तकनीक में विकास और भारत में परिवहन के विद्युतीकरण के लिए भारत सरकार के सशक्त महत्व का लाभ उठाकर पूरे भारत की एक प्रमुख साझा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी कंपनी बनना है। ग्रीनसेल महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान, उत्तराखंड, नई दिल्ली और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में लगभग 1,500 ई-बसों को चला रही है, जिनमें से 700 से अधिक ई-बसें 23 शहरों में चल रही हैं।

इस अवसर पर बोलते हुए, श्री सुमित मित्तल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक - वित्त, ग्रीनसेल मोबिलिटी ने कहा, "हमें इस निविदा के विजेताओं में शामिल होने की खुशी है, जो भारत की सड़कों पर हरित जन परिवहन प्रणाली का आधुनिकीकरण और सुदृढ़ीकरण करते हुए अगले कुछ वर्षों में 50,000 ई-बसों को चलाकर भारत सरकार के बड़े लक्ष्य का हिस्सा बन रही है। ग्रीनसेल मोबिलिटी हमेशा असाधारण गुणवत्ता और सुरक्षा के मानकों पर खरी उतरी है और इसका इस उद्देश्य के लिए विस्तार किया जायेगा।”

Share this story