ये स्कैनर बताएगा कोरोना से फेफड़ो को कितना नुकसान

नयी दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच इसके इलाज और वैक्सीन को लेकर दुनियाभर में शोध हो रहे हैं। इस कोरोना महामारी काल में आवश्यकताएं ही आविष्कार का सृजन कर रही हैं। इसी कड़ी में ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक ऐसा पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड स्कैनर बनाया है, जिससे कोरोना पीड़ित मरीजों के इलाज में मदद मिलेगी। यह पोर्टेबल स्कैनर कोरोना संक्रमण के कारण मरीजों के फेफड़ों को पहुंचे नुकसान के बारे में बताएगा। पोर्टेबल होने के कारण इसे कहीं भी आसानी से ले जाया जा सकता है। यह स्कैनर एआई तकनीक यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के आधार पर कार्य करता है।

पोर्टेबल स्कैनर को तैयार करने वाले अमेरिकी शोधकर्ताओं का दावा है कि यह लैब में होने वाले जांच की तुलना में कम समय में तेजी से नतीजे बताता है। यह पोर्टेबल स्कैनर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, इसे फेफड़ों की तस्वीरों वाली ऑनलाइन लाइब्रेरी से जोड़ दिया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.