Uttarakhand Politics : पेपर लीक से बिफरा यूकेडी, UKPSC पर आदोलन का ऐलान!

Uttarakhand Politics : पेपर लीक से बिफरा यूकेडी, UKPSC पर आदोलन का ऐलान!

देहरादून। प्रदेश भर के तमाम बेरोजगार युवाओं को बुलाया UKPSC के विरोध मे यूकेपीएससी के द्वारा पटवारी भर्ती पेपर लीक मामले को लेकर उत्तराखंड क्रांति दल ने अब आंदोलन का बिगुल फूंक दिया हैं।

उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिवप्रसाद सेमवाल ने कहा कि आने वाली 16 जनवरी 2023 को उत्तराखंड क्रांति दल ने प्रदेश के समस्त परीक्षा अभ्यर्थियों को एवं सभी बेरोजगार युवाओं को यूकेपीएससी के कार्यालय मे जा कर परीक्षा की प्रतियोगी परीक्षाओं की किताबों को जला कर उनकी राख को गंगा जी में विसर्जित किया जाएगा।

उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय प्रवक्ता अनुपम खत्री ने सरकार से मांग की है कि वर्ष 2018 से लेकर अब तक यूकेपीएससी द्वारा कराई गई तमाम भर्तियों की जांच कराई जानी चाहिए।

उत्तराखंड क्रांति दल महिला मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष सुलोचना ईष्टवाल ने सवाल उठाया कि अनुभाग अधिकारी संजीव चतुर्वेदी पिछले 22 साल से आयोग में सेवारत हैं ऐसे में अब तक की तमाम भर्तियों पर सवालिया निशान खड़े हो जाते हैं।

यूकेडी  के केंद्रीय उपाध्यक्ष सुनील ध्यानी ने कहा कि सरकार को पंतनगर विश्वविद्यालय तथा  यूबीटीआर आदि एजेंसियों द्वारा कराई गई परीक्षाओं की भी जांच होनी चाहिए, क्योंकि पंतनगर विश्वविद्यालय द्वारा कराई गई ऊर्जा निगम की भर्तियों में भी गंभीर सवाल उठ रहे हैं। 

उत्तराखंड क्रांति दल के श्रमिक मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष राजेंद्र पंत ने कहा कि पहले अधीनस्थ सेवा चयन आयोग और अब उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की संलिप्तता का खुलासा हो जाने के बाद अब भर्तियों की सीबीआई जांच बेहद जरूरी हो गई है और यूकेडी सीबीआई जांच से कम किसी भी कीमत पर खामोश नहीं बैठेगा।

यूकेडी ने  तमाम बेरोजगार युवाओं से सोमवार को उत्तराखंड लोक सेवा आयोग के कार्यालय के बाहर एकत्र होकर विरोध प्रदर्शन में भागीदारी करने का आह्वान किया है।

यूकेडी ने ऐलान किया कि अब इस प्रदेश मे भ्रष्टाचारी नेता एवं अधिकारियों के लिए कोई जगह नहीं होगी। उक्रांद इन का पूर्ण रूप से बहिष्कार करता है।

प्रेस वार्ता में उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिव प्रसाद सेमवाल, अनुपम खत्री, सुनील ध्यानी, सुलोचना ईष्टवाल, राजेंद्र पंत आदि शामिल थे।

Share this story