मूसेवाला हत्याकांड पर पंजाब के डीजीपी बोले, जल्द ही कटघरे में होगा गोल्डी
मूसेवाला हत्याकांड पर पंजाब के डीजीपी बोले, जल्द ही कटघरे में होगा गोल्डी

चंडीगढ़ (आरएनएस)। पंजाब के पुलिस महानिदेशक गौरव यादव ने रविवार को कहा कि प्रसिद्ध पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या को 6 शार्पशूटरों ने अंजाम दिया और उनमें से चार को गिरफ्तार कर लिया गया है और दो को पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि कनाडा में छिपे हुए व्यक्ति (गोल्डी बराड़) को जल्द ही कटघरे में खड़ा किया जाएगा। डीजीपी ने कहा कि मामले में अब तक 23 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स के प्रमुख प्रमोद बान और अन्य अधिकारियों के साथ गौरव यादव ने मीडिया से बात की।

इस दौरान गौरव यादव ने कहा किदीपक मुंडी बोलेरो मॉड्यूल में शूटर था। उसे शनिवार को दिल्ली पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों के साथ संयुक्त अभियान में पश्चिम बंगाल में नेपाल सीमा के पास से गिरफ्तार किया गया।

मुंडी को कपिल पंडित और राजिंदर जोकर के साथ गिरफ्तार किया गया, जिन्होंने आरोपियों को हथियार और ठिकाने समेत लॉजिस्टिकल सपोर्ट दिया था। मुंडी हत्या में शामिल छठा और आखिरी फरार शार्पशूटर था।

यादव का मानना है कि मुंडी की गिरफ्तारी मूसेवाला के माता-पिता को न्याय दिलाने की राह में महत्वपूर्ण उपलब्धि है। उन्होंने बताया, वे नेपाल के रास्ते नकली पासपोर्ट पर दुबई भागने की योजना बना रहे थे और यह सब वह कनाडा के गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के निर्देश पर कर रहे थे।

बराड़ ने कपिल और जोकर, जो दो बार दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल से भागने में सफल रहे थे, मुंडी को भारत से भागने में मदद करने का काम सौंपा था।
तीनों आरोपियों ने 105 दिनों तक छिपने के लिए हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल के ठिकानों का इस्तेमाल किया।
पंजाब की एक मनसा अदालत ने रविवार को तीनों आरोपियों को 6 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

डीजीपी ने कहा कि प्रारंभिक जांच में पता चला कि तीनों नेपाल से हवाई या सडक़ मार्ग से भूटान और म्यांमार के रास्ते दुबई पहुंचने की योजना बना रहे थे।
एक्टर सलमान खान पर हमला करने की साजिश का खुलासा करते हुए डीजीपी ने कहा कि जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने गैंगस्टर कपिल पंडित को सलमान खान पर हमला करने का जिम्मा सौंपा था। जिसके बाद कपिल ने सलमान खान के घर की रेकी की। पूछताछ के दौरान उन्होंने इस बात का खुलासा किया।

26 अगस्त को मानसा की एक अदालत में 1,850 पन्नों के पुलिस आरोप के अनुसार, मूसेवाला की हत्या 29 मई को युवा अकाली नेता मिद्दुखेड़ा की हत्या के प्रतिशोध में की गई थी।
चार्जशीट में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और जग्गू भगवानपुरिया के अलावा मनमोहन मोहना, दीपक टीनू, संदीप केकड़ा, अंकित सिरसा, प्रियव्रत फौजी, सचिन भिवानी, केशव, कशिश, मनप्रीत मनु और जगरूप रूपा का नाम शामिल है।

फिलहाल बिश्नोई और भगवानपुरिया दोनों ही राज्य पुलिस की हिरासत में हैं।

मूसेवाला हत्याकांड में अब 35 लोगों को नामजद किया गया है, जिसमें शनिवार को तीन गिरफ्तारियां भी शामिल हैं।
इससे पहले दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शार्पशूटर प्रियव्रत फौजी, कशिश और अंकित सिरसा को गिरफ्तार किया था। वहीं मनप्रीत मनु और जगरूप रूपा, जो भगवानपुरिया गैंग के सदस्य हैं, उनको 20 जुलाई को अमृतसर जिले में भारत-पाकिस्तान सीमा के पास एक मुठभेड़ में मार गिराया गया था।

गोल्डी बराड़ से फोन पर बात कर रहे आरोपी सचिन थापन को अजरबैजान में हिरासत में लिया गया। यादव ने कहा, हम उसे प्रत्यर्पित कराने की कोशिश कर रहे हैं। एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स के प्रमुख प्रमोद बान के नेतृत्व में विशेष जांच दल (एसआईटी) हत्या की जांच कर रहा है।

बिश्नोई गैंग के सदस्य गोल्डी बराड़ का नाम चार्जशीट में है। उसने पहले ही हत्या की जिम्मेदारी ली थी।

Share this story