पीसीबी के रवैये से परेशान मिसबाह

डिजिटल डेस्क। पाकिस्तान के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिसबाह-उल-हक चाहते हैं कि इंग्लैंड के दौरे को देखते हुए ट्रेनिंग शिविर जल्द से जल्द शुरू हो, लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) इसका इंतजाम करने को लेकर जूझ रहा है, जिससे इसके आयोजन में देर हो सकती है।

बोर्ड के एक सूत्र ने बताया कि बोर्ड की योजना 30 से 35 खिलाड़ियों को शिविर के लिए आमंत्रित करने की थी, जिसमें से 25 खिलाड़ियों को जुलाई/अगस्त में होने वाले संभावित इंग्लैंड दौरे के लिए चुना जाता जहां पाकिस्तान को तीन टेस्ट और तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने हैं।
सूत्र ने कहा, ‘शिविर के आयोजन का इंतजाम करना पीसीबी के लिए सिरदर्द बन गया है क्योंकि लाहौर की राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में तीस से अधिक खिलाड़ियों के साथ अधिकारियों को ठहराने की सुविधा नहीं है।’
सूत्र ने कहा कि मिसबाह और बोर्ड सहमत हैं कि सभी खिलाड़ी एक ही समय में सुरक्षित स्थान पर जाएंगे और इंग्लैंड दौरे के लिए टीम के रवाना होने तक वहीं रहेंगे। विचार यह है कि खिलाड़ी एनसीए में रहेंगे और समूहों में ट्रेनिंग करेंगे और अकादमी की सुविधाओं का इस्तेमाल ट्रेनिंग और नेट अभ्यास के लिए करेंगे, लेकिन समस्या इतनी बड़ी संख्या में खिलाड़ियों और अधिकारियों को एक साथ ठहराने की है।’

मिसबाह ने स्पष्ट कर दिया है कि खिलाड़ी एक बार अकादमी में आने के बाद घर नहीं जा पाएंगे और ट्रेनिंग में शामिल खिलाड़ियों के अलावा किसी बाहरी व्यक्ति से नहीं मिल पाएंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.