12 सितंबर : दादा-दादी दिवस
GRAND PARENTS DAY

दादा-दादी बच्चों के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं, जिनके साथ वे अपने रहस्यों को खुलकर साझा कर सकते हैं। दादा-दादी भगवान का एक उपहार है जिसे हमें संजोना चाहिए। हम आज की दुनिया में अपने दादा-दादी के मूल्य को भूल गए हैं क्योंकि हम सभी को एकल परिवारों की जरूरत है। हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि वे ईश्वर के अमूल्य उपहार हैं जो हमें दूसरों का सम्मान करना और भविष्य में एक सभ्य जीवन जीना सिखाते हैं। दादा-दादी जिम्मेदार व्यक्ति होते हैं जो हमें भविष्य में जिम्मेदार नागरिक बनना सिखाते हैं। हमारे जीवन में उनकी उपस्थिति के बिना, जीवन उतना शांत नहीं होता।

दादा-दादी अपने पोते-पोतियों के लिए वरदान हैं। वे अपने साथ वर्षों का अनुभव लेकर आते हैं जो उन्हें महत्वपूर्ण निर्णय लेने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में मदद करता है। दादा-दादी भी परिवार में ढेर सारी जोड़ते हैं, खासकर पारिवारिक समारोहों और विशेष अवसरों के दौरान। वे आज के परिवारों के बदलते चलन के साथ भी खूबसूरती से फिट बैठते हैं। अपने दादा-दादी के साथ रहने वाले किसी भी बच्चे से पूछें और वे आपको बतायंगे कि उसे अपने दादा और दादी के साथ दोस्ती करने में कितना मज़ा आता है। दादा-दादी की एक भव्यता होती है जिसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। वे निश्चित रूप से   पिता की परवरिश की तुलना में अधिक खुशी देते हैं। हालाँकि, दादा-दादी की शैलियाँ परिवार से परिवार, संस्कृति से संस्कृति और राष्ट्र से राष्ट्र में भिन्न होती हैं। प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में दादा-दादी की भूमिका महत्वपूर्ण से कम नहीं है। एक बच्चे की बढ़ती अवस्था महत्वपूर्ण होती है। यह तब होता है जब वह जीवन के सार के बारे में सीखता है। अक्सर इस व्यस्त दुनिया में माता-पिता अपने बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम नहीं बिता पाते हैं। हालाँकि, बच्चे अपने दादा-दादी की उपस्थिति में नैतिकता और जीवन के मूल मूल्यों को सीखना शुरू करते हैं।

अपने दादा-दादी के साथ बातचीत से आप दुनिया का पता लगा सकते हैं। आप उनके जीवन को करीब से देखने को मिलते हैं। जब आप अपने दादा-दादी के करीब होते हैं तो आप साझा करने और देखभाल करने की आदतें पैदा करते हैं। आपके माता-पिता आपको डांट सकते हैं, लेकिन आपके दादा-दादी ऐसा कभी नहीं करेंगे। वे जीवन भर आपके सबसे बड़े समर्थक हैं। आजकल, एकल परिवारों की बढ़ती प्रवृत्ति के साथ, दादा-दादी आमतौर पर परिवार के साथ नहीं रहते हैं और कभी-कभार इलाज करने के लिए जाते हैं, लेकिन जरूरी नहीं कि अपने बच्चों को पालने में माता-पिता को सलाह देने या सलाह देने में बड़ी मात्रा में निवेश करें। वे वास्तव में पोते-पोतियों के साथ मस्ती के समय की तलाश कर रहे हैं और बड़े पैमाने पर अपने सुरक्षित आश्रय में रहते हैं। वे अधिक आराम से हैं और पोते-पोतियों की जिम्मेदारी लेने के बजाय, वे उनके समर्थक और दोस्त के रूप में कार्य करते हैं। फिर भी, उनके पास हमेशा बिना शर्त प्यार, देखभाल और स्नेह होता है, चाहे वे कितनी भी दूर क्यों न हों। दादा-दादी पारिवारिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जो पूरे परिवार को छाया देने वाले पेड़ के रूप में कार्य करते हैं।

परिवार के बड़े सदस्य परिवार के सभी कर्तव्यों का वहन करते हैं। वे पूरे परिवार को अपना अविभाजित ध्यान और चिंता देते हैं। आपके दादा-दादी का आपके साथ होना सौभाग्य की बात है। हमारे दादा-दादी ने हमारे माता-पिता के जीवन को आकार दिया है, और हम उनके बिना जीवन के बारे में उतना नहीं जान पाते। यद्यपि वे योग्य शिक्षक नहीं हैं, वे हमें दैनिक आधार पर जीवन के बारे में पढ़ाते हैं। वे हमें विभिन्न कहानियां सुनाते हैं, जिनमें से प्रत्येक का अंत एक सुंदर नैतिकता के साथ होता है। कहानियाँ काल्पनिक हो सकती हैं, लेकिन वे जीवन को वैसे ही चित्रित करती हैं जैसे वह है। दादा-दादी बच्चों के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं, जिनके साथ वे अपने रहस्यों को खुलकर साझा कर सकते हैं। दादा-दादी भगवान का एक उपहार है जिसे हमें संजोना चाहिए। हम आज की दुनिया में अपने दादा-दादी के मूल्य को भूल गए हैं क्योंकि हम सभी को एकल परिवारों की जरूरत है। हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि वे ईश्वर के अमूल्य उपहार हैं जो हमें दूसरों का सम्मान करना और भविष्य में एक सभ्य जीवन जीना सिखाते हैं। दादा-दादी जिम्मेदार व्यक्ति होते हैं जो हमें भविष्य में जिम्मेदार नागरिक बनना सिखाते हैं। हमारे जीवन में उनकी उपस्थिति के बिना, जीवन उतना शांत नहीं होता।

वे हमारे निर्णय लेने वाले हैं, जिनके बिना हमें कभी भी सर्वोत्तम विकल्प बनाने का अवसर नहीं मिलता। उनके पालन-पोषण के कारण ही हम अभी सही रास्ते पर हैं। दादा-दादी हमें गलतियाँ करना और सही दिशा में इशारा करना सिखा सकते हैं। इस प्रकार दादा-दादी एक परिवार के सबसे महत्वपूर्ण सदस्य होते हैं, जिनके बिना हमारा जीवन भयानक होता। इसलिए हमें अपने जीवन में उनके महत्व को महत्व देना चाहिए। जब वे बूढ़े हो जाते हैं, तो यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उनकी उचित देखभाल करें और उनके साथ कुछ क्वालिटी टाइम बिताएं। पिछले कुछ वर्षों में, सामाजिक परिवर्तन के कारण दादा-दादी पर अधिक जिम्मेदारियां देखी गई हैं। कई परिवारों में, जहां माता और पिता दोनों काम कर रहे हैं, बच्चों का पालन-पोषण केवल दादा-दादी ही कर रहे हैं। यह आवश्यक है कि यह बदली हुई भूमिका वरिष्ठों को स्वीकार्य होनी चाहिए और उन्हें बेबी-सिटर्स के रूप में नहीं माना जाता है। हालांकि हर दादा-दादी, मुझे यकीन है, जब जरूरत की घड़ी में, विशेष रूप से गर्भधारण या त्योहार के समय में बुलाया जाता है, तो वह अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना पसंद करेंगे। मेरा दृढ़ विश्वास है कि बच्चों के जीवन में वरिष्ठों की एक विशेष भूमिका होती है, एक ऐसी भूमिका जिसे कोई नहीं बदल सकता।

दादा-दादी बच्चों को इतिहास, विरासत और पहचान की भावना हासिल करने में मदद करते हैं। वे अतीत से एक महत्वपूर्ण संबंध प्रदान करते हैं। दादा-दादी महत्वपूर्ण पारिवारिक परंपराओं और जीवन की कहानियों को पारित कर सकते हैं कि एक पोता न केवल युवा होने पर आनंदित होगा बल्कि समय के साथ और भी अधिक सराहना करेगा दादा-दादी एक मूल्यवान संसाधन हैं क्योंकि उनके पास साझा करने के लिए अपने स्वयं के जीवन से बहुत सारी कहानियां और अनुभव हैं। अक्सर बच्चे दादा-दादी की बात तब भी सुनते हैं, जब वे अपने माता-पिता या अन्य वयस्कों की बात नहीं सुन रहे होते हैं। दादा-दादी भी बच्चे की सांस्कृतिक विरासत और पारिवारिक इतिहास के लिए एक लिंक प्रदान करते हैं।

-- - डॉo सत्यवान सौरभ, कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार, आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,333, परी वाटिका, कौशल्या भवन, बड़वा (सिवानी) भिवानी, हरियाणा – 127045मोबाइल :9466526148,01255281381
(मो.) 01255-281381 (वार्ता)
(मो.) 94665-26148 (वार्ता+वाट्स एप)
facebook -  https://www.facebook.com/saty.verma333
twitter-    https://twitter.com/SatyawanSaurabh

Share this story