जानिए उत्तराखंड में बुधवार को सामने आये कितने कोरोना संक्रमित मरीज और कितनों की हुई मौत?

देहरादून : उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 33 संक्रमित मिले हैं। वहीं एक मरीज की मौत हुई है। जबकि 140 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। वहीं, सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 711 पहुंच गई है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, बुधवार को 24279 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं दो जिलों बागेश्वर और टिहरी में एक भी संक्रमित मरीज सामने नहीं आया है। वहीं, अल्मोड़ा में छह, चमोली में एक, चंपावत में एक, देहरादून में आठ, हरिद्वार में पांच, नैनीताल में तीन, पौड़ी में एक, पिथौरागढ़ में पांच, रुद्रप्रयाग में एक,  ऊधमसिंह नगर में एक और उत्तरकाशी में एक मामला सामने आया है।

प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 341307 हो गई है। इनमें से 327252 लोग ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के चलते अब तक कुल 7352 लोगों की जान जा चुकी है।

मास्क न पहनने पर संक्रमित महिला मरीज को पीटा 

हरिद्वार में घर में बैठी कोरोना पॉजिटिव महिला को मास्क न पहनने पर पड़ोस में रहने वाली दो महिलाओं ने पीट डाला। महिला ने कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

श्यामपुर थाना प्रभारी अनिल चौहान के मुताबिक क्षेत्र के गांव पीली पड़ाव निवासी मंजू देवी ने शिकायत देते हुए बताया कि 11 जून को शाम सात बजे वह अपने घर में बैठी हुई थी। मंजू का आरोप है कि तभी पड़ोस में रहने वाली सुनीता और गायत्री देवी उसके घर में घुस आईं। मंजू का आरोप है कि घर में घुसते ही उन्होंने मारपीट शुरू कर दी और कहा कि तू कोरोना पॉजिटिव है और बिना मास्क के बैठी हुई है।

इसके बाद उसे काफी चोट आई। महिला का आरोप है कि इस दौरान गांव के पूर्व प्रधान बलबीर सिंह का बेटा शशि झंडवाल भी उसके घर में घुसा और कहने लगा कि वह उसके बाप को बदनाम कर रही है।

आरोप है कि शशि ने मंजू के कपड़े भी फाड़ दिए। मंजू का कहना है कि सूचना पर पहुंची पुलिस तीनों को थाने ले आई और उनका शांतिभंग की धाराओं में चालान किया। मंजू का आरोप है कि राजनीतिक रसूख के कारण पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। थाना प्रभारी अनिल चौहान ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.