जॉनसन ऐंड जॉनसन ने बनाया कोरोना का टीका

0- सितंबर में होगा ट्रायल

वॉशिंगटन : कोरोना वायरस के इलाज की खोज से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है। अब जॉनसन ऐंड जॉनसन कंपनी ने आशा की नई किरण दिखाई है। कंपनी ने कहा है कि उसने कोरोना वायरस के इलाज के लिए संभावित टीके की पहचान की है जिसका सितंबर महीने में इंसानों पर टेस्ट किया जाएगा। कंपनी का कहना है कि यह अगले साल के शुरुआती महीनों में इमर्जेंसी यूज के लिए उपलब्ध भी हो सकता है। कंपनी ने सोमवार को एक बयान में बताया कि फार्मास्यूटिकल कंपनी ने अमेरिकी सरकार के बायोमेडिकल अडवांस्ड रिसर्च एंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है जो इस कोशिश में एक अरब डॉलर का निवेश करेगा। जॉनसन ऐंड जॉनसन ने जनवरी में एडी26 सार्स-सीओवी-2 पर काम करना शुरू किया था जिसपर अब भी जांच चल रही है। इस टीके के लिए ईबोला के संभावित टीके को विकसित करने वाली प्रौद्योगिकी का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। कंपनी के मुख्य विज्ञानी अधिकारी पॉल स्टोफेल्स ने कहा, हमारे पास कई संभावित टीके थे जिनका परीक्षण हमने जानवरों पर किया था और उनमें से हमें सर्वश्रेष्ठ को चुनना था, इसमें 12 हफ्ते लग गए 15 जनवरी से लेकर आज तक का वक्त। उन्होंने कहा हमें यह भी आंकना था कि कौन से संभावित टीके में सुधार किया जा सकता है ताकि एक तरफ यह सुनिश्चित हो सके कि यह काम करे और दूसरी तरफ इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ लिया जा सके। हालांकि आज तक कोरोना वायरस परिवार से संबंधित किसी भी वायरस के लिए सफल मानवीय टीका नहीं बन सका है लेकिन स्टोफेल्स को भरोसा है कि वे इस उपलब्धि को हासिल कर लेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.