पुलवामा दोहराना चाहता था मसूद अजहर का रिश्तेदार इस्माइल लंबू

पुलवामा। सुरक्षाबलों ने पिछले हफ्ते पुलवामा के अयानगुंड में कार में बम लगाकर हमला करने की साजिश नाकाम की थी। हफ्ते भर की जांच के बाद पता चला है कि पुलवामा जैसा हमला दोहराने की इस साजिश में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) प्रमुख मौलाना मसूद अजहर का करीबी रिश्तेदार मोहम्मद इस्माइल अल्वी उर्फ लंबू शामिल था। लंबू घाटी में जैश का प्रमुख है। उसने 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में अहम भूमिका निभाई थी। इसमें 40 जवानों की मौत हो गई थी। मामले की जांच कर रहे काउंटर टेररिज्म विभाग के दो अफसरों ने बताया है कि जल्द ही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) इस मामले की जांच करेगी। पिछले साल हुए हमलों को लेकर भी जांच एजेंसी इस्माइल लंबू को पकड़ने में लगी हुई हैं। एक अधिकारी ने बताया कि लंबू को इस्माइल भाई के रूप में भी जाना जाता है। उसने पुलवामा हमले की साजिश में शामिल तीन आतंकियों मुदस्सिर खान, खालिद और मोहम्मद उमर फारूक को विस्फोटक जुटाने की जानकारी दी थी। उन्हें बताया था कि घाटी में पत्थर की खदानों से जिलेटिन की छड़ें कैसे मिलेंगी? उसने तीनों को लोकल दुकानों से अमोनियम नाइट्रेट जैसे विस्फोटक सामग्री इकट्‌ठा करने में भी मदद की थी। तीनों आतंकियों को पुलवामा हमले के एक महीने बाद मुठभेड़ में मार गिराया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.