भारत-चीन सीमा : भारतीय सुरक्षा बलों ने सीमा पर बढ़ाई गश्त

देहरादून : लिपुपास के पास भारत-चीन सीमा पर चीनी सैनिकों की उकसाने वाली गतिविधियों के चलते भारतीय सुरक्षा बलों ने सीमा पर गश्त बढ़ा दी है। भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के साथ ही भारतीय सेना के जवान भी सीमा पर गश्त कर रहे हैं। निगरानी बढ़ाने के बाद चीनी सैनिकों की तरफ से दोबारा कोई हिमाकत नहीं की गई है। लिपुलेख में अब माहौल शांत बताया जा रहा है। बता दें कि चीनी सैनिकों ने एक सप्ताह पहले पिथौरागढ़ जिले में स्थित लिपुपास में सीमा पर स्थित भारतीय बीओपी हटाने के चेतावनी भरे झंडे लहराकर माहौल खराब करने की कोशिश की थी। इस घटना के बाद भारतीय सुरक्षा बलों ने सीमा पर गश्त बढ़ा दी। सुरक्षा बल चौबीस घंटे सीमा पर गश्त कर रहे हैं। लिपुपास क्षेत्र में आईटीबीपी के जवानों के अलावा भारतीय सेना भी मुस्तैदी से नजर रखे हुए है। सूत्रों के अनुसार, अब वहां पर माहौल पूरी तरह से शांत है।

रोड कटिंग के लिए हेलिकॉप्टर से मिलम पहुंचीं मशीनें

धारचूला के तवाघाट से लिपुलेख तक सड़क बन जाने से भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को गश्त करने में काफी सहूलियत हो रही है। सुरक्षा बलों के अधिकारी भी सीमाओं की सुरक्षा व्यवस्थाओं का आसानी से जायजा ले रहे हैं। वहीं, धारचूला की ओर से चीन सीमा लिपुपास तक सड़क कटिंग का काम पूरा होने के बाद अब बीआरओ ने मुनस्यारी की ओर से चीन सीमा तक पहुंच बनाने के लिए 80 किलोमीटर लंबी मुनस्यारी-मिलम सड़क की कटिंग का काम भी तेज कर दिया है। सड़क निर्माण में बाधा बन रही 18 किमी लंबी चट्टानों को काटने के लिए सेना ने हेलिकॉप्टर से मशीनें मिलम पहुंचा दी गई हैं। वर्ष 2021 तक मिलम से भी चीन सीमा तक भारत की सड़क से पहुंच हो जाएगी। इस सड़क का निर्माण होने से चीन सीमा पर भारत की सैन्य ताकत भी बढ़ेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.