आज स्थिति 1991 के भुगतान संतुलन के संकट जैसी नहीं – बिमल जालान

नयी दिल्ली। देश में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए सरकार ने 31 मई लॉकडाउन लागू किया हुआ है। इस कारण देश की अर्थव्यवस्था पर इसका खासा असर देखने को मिला है। वहीं, इसके बाद भी कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि सरकार अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए सही कदम उठा रही है। इसमें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर बिमल जालान भी शामिल हैं। आरबीआई के पूर्व गवर्नर बिमल जालान ने सरकार द्वारा कोविड-19 से प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए उठाए गए कदमों को काफी सकारात्मक करार दिया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इन उपायों से अर्थव्यवस्था में गिरावट को रोकने में मदद मिलेगी। जालान ने कहा कि आज स्थिति 1991 के भुगतान संतुलन के संकट जैसी नहीं है। आज भारत के पास संसाधन हैं। साथ ही किसी भी संकट के लिए विदेशी मुद्रा का भंडार है। जालान ने कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जिन उपायों की घोषणा की है वे काफी सकारात्मक हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.