भारत समेत 15 देशों में कोरोना की लहर दोबारा लौटने की आशंका

नई दिल्ली। भारत उन 15 देशों में बताया गया है, जहां लॉकडाउन में ढील देने से कोरोना के मामले बढ़ने का जोखिम है। यह बात सिक्योरिटीज रिसर्च फर्म नोमुरा (Nomura) की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। इन 15 देशों में कोरोना की लहर दोबारा लौटने की आशंका जताई गई है।

तीन कैटेगरी के आधार पर की गई स्टडी

नोमुरा ने इस रिसर्च में 45 अर्थव्यवस्थाओं को शामिल किया। देशों को 3 कैटेगरी में रखा गया। पहली- ऑन ट्रैक, दूसरी- वॉर्निंग साइन और तीसरी- डेंजर जोन की है। भारत को डेंजर जोन में रखा गया है।

ऑन ट्रैक: इस कैटेगरी में ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, इटली, ऑस्ट्रिया, जापान, नॉर्वे, स्पेन, थाईलैंड, इटली, ग्रीस, रोमानिया, दक्षिण कोरिया जैसे 17 देश हैं। इन्हें ग्रीन कलर के साथ सेफ बताया गया है।

वॉर्निंग साइन: इसमें डेनमार्क, फिनलैंड, हंगरी, आयरलैंड, पोलैंड, जर्मनी, अमेरिका, ब्रिटेन जैसे 13 देशों को शामिल किया गया है।

डेंजर जोन: इसमें कुल 15 देश हैं, जिसमें भारत, इंडोनेशिया, चिली, पाकिस्तान, ब्राजील, मैक्सिको जैसे देश शामिल हैं। इसमें कुछ बेहतर अर्थव्यवस्थाओं वाले देश जैसे स्वीडन, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका और कनाडा भी शामिल हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, 17 देश की अर्थव्यवस्थाएं ट्रैक पर हैं। उनमें वायरस फिर से आने के कोई संकेत नहीं हैं। 13 देशों में चेतावनी के संकेत दिखाई दिए हैं। वहीं, 15 देश सबसे ज्यादा जोखिम वाले जोन में हैं। यहां वायरस की दूसरी लहर आ सकती है।

स्टडी के मुताबिक, लॉकडाउन हटाने से दो तरह के हालात बनेंगे। पहला- किसी देश में गतिविधियां बढ़ेंगी, कारोबार दोबारा शुरू होगा, लेकिन रोजाना नए मामलों में मामूली बढ़ोतरी होगी।दूसरा- नतीजे बुरे हो सकते हैं। इसमें अर्थव्यवस्था को खोलने से रोजाना संक्रमितों के मामले बढ़ेंगे। जनता के बीच डर फैलेगा और लोगों की गतिविधियां प्रभावित होंगी। यहां लॉकडाउन को दोबारा लागू किया जा सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.