चारधाम यात्रा को लेकर संशय बरकरार, चमोली व रुद्रप्रयाग के डीएम करेंगे यात्रा पर हक-हकूकधारियों से विचार विमर्श

देहरादून। अनलॉक 1.0 के फेज 2 में उत्तराखंड सरकार ने प्रदेश में धार्मिक स्थल, मॉल, होटल आदि खोल दिए हैं। गाइडलाइन के तहत देहरादून नगर निगम क्षेत्र एवं कंटेनमेंट जोन को छोड़ बाकी प्रदेश में सभी होटल, रेस्टोरेंट और मॉल को खोलने की अनुमति दे दी गई है। हालांकि, अभी भी चारधाम यात्रा को लेकर संशय बरकरार है। प्रदेश सरकार ने चारधाम यात्रा का जिम्मा चारधाम देवस्थानम बोर्ड पर छोड़ दिया है। ऐसे में अब देवस्थानम बोर्ड चारधाम से संबंधित जिला प्रशासन और हक-हकूकधारियों से बात करने के बाद सशर्त यात्रा को खोलने के संबंध में निर्णय लेगा। इसमें यात्रा से जुड़ी व्यवस्था, कोविड-19 से जुड़े एहतियात और स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधित कदम उठाए जाएंगे। यही नहीं दर्शन और पूजा के लिए प्रोटोकॉल भी तय किया जाएगा। ऐसे में जब चारधाम यात्रा का जिम्मा राज्य सरकार ने देवस्थानम बोर्ड पर छोड़ दिया है तो अब बोर्ड चारधाम से जुड़े सभी जिला अधिकारियों से वार्ता कर रहा है। इसके साथ ही जिलाधिकारियों को यात्रा से संबंधित हक-हकूकधारियों से बात करने के भी निर्देश दिए हैं। उत्तराखंड में चारधाम यात्रा को लेकर राज्य सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि हक-हकूकधारियों की राय के आधार पर ही यात्रा के संबंध में फैसला लिया जाएगा। इसी क्रम में सोमवार को चमोली और रुद्रप्रयाग के जिला अधिकारी केदारनाथ और बदरीनाथ धाम के तीर्थ पुरोहितों, हक-हकूकधारियों के साथ बैठक कर विचार विमर्श करेंगे। गौर हो कि प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए चारधाम के हक-हकूकधारी फिलहाल यात्रा के पक्ष में नहीं हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.