चमोली से लगे चीन सीमा क्षेत्र में भारी संख्या में जवानों की तैनाती

चमोली। लद्दाख में भारत-चीन के बीच उपजे विवाद के कारण चमोली से लगे चीन सीमा क्षेत्र में भारी संख्या में जवानों की तैनाती कर दी गई है।

सेना के वाहनों में खाद्यान्न सामग्री भी सीमा क्षेत्र में पहुंचाई जा रही है। सूत्रों के अनुसार, आईटीबीपी उत्तरी कमान के उच्च अधिकारी तीन दिन से सीमा क्षेत्र में ही डटे हुए हैं। वे सीमा क्षेत्र बाड़ाहोती के निरीक्षण पर भी गए।लद्दाख के गलवां घाटी में भारत-चीन के बीच चल रही तनातनी के बाद से सेना और आईटीबीपी के साथ ही खुफिया तंत्र अलर्ट है। लगातार सीमा क्षेत्र की घेराबंदी की जा रही है।

शुक्रवार को चमोली जिले में आसमान में सेना के हेलीकॉप्टर भी घूमते दिखाई दिए। बताया जा रहा है कि आईटीबीपी के उत्तरी कमान के उच्च अधिकारी तीन दिनों से बाड़ाहोती क्षेत्र में हैं और स्थिति का जायजा ले रहे हैं। सेना की ओर से पर्याप्त मात्रा में असलहे व तोपें भी सीमा क्षेत्र में पहुंचा दी गई हैं।

दीप प्रज्वलित कर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

ऋषिकेश में भाजपा स्वर्गाश्रम मंडल की ओर से गलवां घाटी में शहीद हुए हमारे वीर जवानों के सम्मान में दीप प्रज्वलित कर श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर कार्यकर्ताओं ने दो मिनट का मौन व्रत रखकर शहीदों को याद किया।

मंडल अध्यक्ष गुरुपाल बत्रा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने गंगा तट पर एकत्रित होकर वीर शहीदों के सम्मान में मां गंगा को दीप प्रज्वलित व पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि शहीदों की शहादत को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

देश की रक्षा के लिए भारतीय वीरों ने दुश्मनों का डटकर मुकाबला करते हुए अपने प्राणों को न्योछावर कर दिया। इस अवसर पर सांसद प्रतिनिधि भरत लाल, विधायक प्रतिनिधि गोपाल अग्रवाल, मीडिया प्रमुख देवेंद्र पयाल, अभिनंदन दुबे, मनीष राजपूत, बृजेश चतुर्वेदी, राजू प्रजापति, विकास भंडारी, नवनीत राजपूत, रामजी पांडेय, सूरजीत राणा, मोहन नागर, विवेक भारती, निपुण धाकड़, सचिन सौदियाल आदि मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.