उत्तराखंड में कोरोना के बाद सरदर्दी बन सकता डेंगू, हर 11वें घर में पल रहा डेंगू मच्छर का लार्वा

देहरादून : राजधानी देहरादून दून में डेंगू कभी भी अपना प्रकोप दिखा सकता है। इसका कारण ये है कि जिले में हर 11वें घर में डेंगू मच्छर का लार्वा पल रहा है। स्वास्थ्य विभाग के घर-घर सर्वे के दौरान इसकी तस्दीक हुई है। विभागीय टीम ने हजारों घरों से लार्वा नष्ट कराया है। हालांकि, बरसाती मौसम को देखते हुए खतरा अभी भी बना हुआ है।

बरसात के मौसम में हर साल दून में डेंगू के मामले बड़ी संख्या में सामने आते हैं। इस साल भी बरसात शुरू होने के साथ ही प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने एहतियाती सुरक्षा उपाय करने शुरू कर दिए हैं। डेंगू की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर निरीक्षण कर रही है।

इस दौरान खुले में पड़े गमलों, टायरों में जमा पानी को साफ करवाया जा रहा है। साथ ही फ्रिज के वाटर बॉक्स, कूलर समेत उन अन्य जगहों की भी जांच की जा रही है, जहां आमतौर पर मच्छर पैदा होते हैं और लोगों का ध्यान नहीं रहता।

निरीक्षण के दौरान जो तस्वीर सामने आई है, वो आने वाले खतरे की तरफ इशारा कर रही है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अब तक जिले में 75466 घरों का निरीक्षण किया है, इसमें से 6650 घरों में मच्छर का लार्वा मिला है। इस लिहाज से देखा जाए तो प्रत्येक 11वें घर में डेंगू को जन्म देने वाले मच्छर पल रहे हैं।

भगत सिंह कॉलोनी में किया घर-घर निरीक्षण

नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार को भगत सिंह कॉलोनी में घर-घर जाकर निरीक्षण किया। उन्होंने एक घंटे का डेंगू मेलरिया रोकथाम व नियंत्रण अभियान चलाया। इस दौरान घर-घर जाकर निरीक्षण किया गया और लोगों को डेंगू मच्छरों की रोकथाम के लिए जागरूक किया गया। इसके अलावा लार्विसाइड, इंसेक्टिसाइड दवा का छिड़काव व फॉगिंग की गई।

Leave A Reply

Your email address will not be published.