CRIME : सैनिक पिता ने 10 माह की बच्ची को पटक कर मार डाला, वजह हैरान कर देगी
CRIME : सैनिक पिता ने 10 माह की बच्ची को पटक कर मार डाला, वजह हैरान कर देगी

मुक्तसर (पंजाब)। दिल दहला देने वाली एक घटना पंजाब से आमने आई है। यहां एक पिता ने अपनी 10 माह की मासूम बच्ची को फर्श पर पटक कर मौत के घाट उतार दिया। मामला मुक्तसर जिले के गांव रणजीतगढ़ का है। घटना के बारे में सुनकर हर कोई हैरान है। पत्नी के साथ घरेलू कलह को वारदात की वजह बताई जा रही है। मगर लोग यह सवाल कर रहे हैं कि 10 माह की बच्ची का क्या कसूर था। शायद बच्ची भी यही पूछ रही होगी कि पापा मेरा गुनाह क्या था...

आरोपी पिता सैनिक है। इस समय वह अंबाला में तैनात है। हत्याकांड में आरोपी के माता-पिता का नाम भी शामिल है। थाना सदर पुलिस ने सभी के खिलाफ हत्या की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। मुख्य आरोपी मृतक बच्ची का पिता फरार है जबकि पुलिस ने आरोपी के पिता को काबू कर लिया है। जानकारी के अनुसार अंबाला कैंट में तैनात सैनिक सतनाम सिंह का विवाह करीब डेढ़ साल पहले ही गांव लक्खोके बहराम (फिरोजपुर) निवासी अमनदीप कौर से हुआ था।

विवाह के कुछ समय बाद ही सतनाम, उसके माता-पिता अमनदीप कौर के साथ लड़ने लगे। अमनदीप के चरित्र पर शक करने लगे। इस दौरान कुछ समय बाद उन्होंने अमनदीप को घर से निकाल दिया। अमनदीप उस समय गर्भवती थी। सतनाम ने अपनी पत्नी अमनदीप से तलाक के लिए अदालत में केस दायर कर दिया। उधर, अमनदीप ने सेना के अधिकारियों के पास सतनाम की शिकायत कर दी। इस मामले में सेना के अधिकारियों ने अंबाला कैंट बुलाकर दोनों से बातचीत भी की थी। इस बीच ही अमनदीप कौर ने अपने मायके में बच्ची को जन्म दिया। जिसका नाम उन्होंने रहमत कौर रखा।

बेटी होने के बाद भी दोनों परिवारों में विवाद बना हुआ था। गत 12 जुलाई को सेना के अधिकारियों ने फिर से दोनों को बुलाकर उनसे बात की और आदेश दिया कि वे दोनों 20 दिन एक साथ रहेंगे। इसके बाद सतनाम अपनी पत्नी अमनदीप कौर को गांव रणजीतगढ़ लेकर आ गया। इन 20 दिनों दौरान भी घरेलू कलह खत्म नहीं हुई। सतनाम, उसका पिता सुखचैन व मां स्वर्ण कौर अमनदीप कौर को बेटी रहमत के किसी और की बच्ची होने का ताना मारने लगे। गत रविवार की शाम को अमनदीप कौर का पिता जसविंदर सिंह अपनी बेटी और बच्ची के कपड़े लेकर उनके घर पर पहुंचा था। उसके पहुंचने पर घर में कलह बढ़ गई।

अमनदीप का पति व सास-ससुर रहमत को ही कलह की जड़ बताने लगे। इतने में सतनाम ने अमनदीप कौर के हाथों से बच्ची को छीन कर टांगों से पकड़कर फर्श पर पटककर मार डाला। अमनदीप के पिता जसविंदर ने शोर मचाना शुरु कर दिया तो लोग भी एकत्र हो गए। बच्ची को अस्पताल पहुंचाया गया। मगर तब तक डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। थाना प्रभारी जगसीर सिंह ने बताया कि मृतक बच्ची का दादा सुखचैन सिंह हाथ पर चोट लगी होने की बात कहकर सिविल अस्पताल में दाखिल हो गया। जहां से उसे हिरासत में लिया गया है। इस मामले में सैनिक सतनाम सिंह, उसके पिता सुखचैन सिंह और मां स्वर्ण कौर के खिलाफ हत्या का केस दर्ज लिया गया है। मुख्यारोपी सैनिक सतनाम सिंह की तलाश की जा रही है।

Share this story