CRIME BULLETIN-12 : पढ़िए उत्तराखंड की तमाम अपराध जगत की ताजा खबरें एक साथ सिर्फ एक क्लिक पर...
crime news

नाबालिग को बहला-फुसलाकर भगाने वाला गिरफ्तार
रुद्रपुर :
कोतवाली क्षेत्र से बहला-फुसलाकर एक नाबालिग को भगा ले जाने वाले दूसरे समुदाय के युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर नाबालिग को बरामद कर लिया है। नाबालिग के बयान के बाद पुलिस ने मुकदमे में आरोपी के खिलाफ पॉक्सो की धारा बढ़ा दी है। नाबालिग की बरामदगी के लिए कुछ दिन पूर्व विधायक शिव अरोरा ने भी एसएसपी से मुलाकात की थी। पुलिस टीम को एसएसपी ने पांच हजार का इनाम देने की घोषणा की है। गुरुवार को मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि आदर्श कॉलोनी घासमंडी निवासी एक महिला ने पुलिस को तहरीर सौंपी थी। इसमें कहा था कि गांधी कॉलोनी निवासी फैसल उसकी नाबालिग बेटी को बहला-फुसलाकर भगा ले गया है। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए सात पुलिस टीमों का गठन किया गया। पुलिस टीमों को जांच में पता चला कि फैसल की मां शम्मो, जीजा गुलवेज, मौसा शौकत और दोस्त शारिक भी नाबालिग को भगाने में शामिल हैं। पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर फैसल की खोजबीन और तेज कर दी। इधर, सर्विलांस की मदद से पुलिस को कुछ अहम सुराग मिले। इसके आधार पर पुलिस ने बुधवार को रामपुर क्षेत्र से आरोपी फैसल को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से नाबालिग को बरामद कर लिया।

बच्चा चोरी की अफवाह फैला युवकों से मारपीट करने वाले दो गिरफ्तार
रुद्रपुर। बीते दिनों खेड़ा क्षेत्र में बच्चा चोरी की अफवाह फैलाकर युवकों से मारपीट करने के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। जबकि 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। गुरुवार को एसपी सिटी मनोज कत्याल ने बताया कि ट्रांजिट कैंप निवासी सोनू पुलिस को सौंपी तहरीर दी। उन्होंने कहा वह अपने साथी सतवीर निवासी ट्रांजिट कैंप और दिनेश निवासी पीलीभीत यूपी के साथ रामलीला आदि में नाचने गाने का कार्यक्रम करता है। कुछ दिन पहले शाम को करीब सात बजे तीनों लोग खेड़ा में गए थे। वहां पर उन्होंने किसी युवक से पीने के लिए पानी मांगा। इसी दौरान क्षेत्र के कुछ युवकों ने उनके बच्चा चोर होने की अफवाह फैलाकर उनके साथ मारपीट कर दी। युवकों से मारपीट करने वाले गुलाम अनवर और जावेद निवासी वार्ड 13 रेशमबाड़ी थाना रुद्रपुर को बुधवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। एसपी सिटी ने कहा अफवाहें फैलाने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

998 ग्राम चरस के साथ युवक गिरफ्तार
रुद्रपुर। हल्का नंबर 1 चौकी पुलिस ने लगभग 1 किलो चरस के साथ युवक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अब आरोपी का चालान कर कोर्ट में पेश करने की तैयारी कर रही है। गुरुवार को एसपी चंद्र मोहन सिंह शिव वंदना वर्मा ने प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि मुखबिर की सूचना पर हल्का नंबर एक चौकी प्रभारी कपिल कंबोज ने बुधवार की शाम एक युवक को गिरफ्तार किया है। तलाशी के दौरान उसके कब्जे से 998 ग्राम चरस बरामद हुई है। पूछताछ में युवक ने अपना नाम सोनू कुमार पुत्र लल्लू सिंह निवासी अक्का पांडे भोजपुरी जिला मुरादाबाद बताया। बरामद चरस की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में लगभग ₹2 लाख रुपए आंकी गई है। इस दौरान कोतवाल मनोज रतूड़ी, एसएसआई प्रदीप मिश्रा, हेमचंद्र, मनोहर लाल, सुरेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे।

जेब काटने के इरादे से आए तीन जेबकतरे दबोचे
हरिद्वार। नगर कोतवाली की रोड़ी बेलवाला पुलिस चौकी टीम ने चेकिंग के दौरान श्रद्धालु यात्रीयों की जेबतराशी के इरादे से घूम रहे तीन जेबकतरों को गिरफ्तार किया है। रोड़ी बेलवाला चौकी प्रभारी एसआई अंशुल अग्रवाल ने बताया कि गिरफ्तार किए गए तीनों जेबतराश खैरी पुत्र प्रदीप कुमार निवासी ग्राम बरीवाला थाना बरीवाला जिला मुक्सर पंजाब, अजय पुत्र तोताराम निवासी सीमापुरी डीएलएफ दिल्ली वेदज्योति दिल्ली पिताम्बर पुत्र बालमुकन्द निवासी धोबीघाट बैरागी कैम्प कनखल थाना कनखल खानाबदोश हैं और चोरी करने में माहिर हैं। भीड़भाड़ वाले इलाकों में घूमते हुए लोगों की जेब काटने और चोरी करने का काम करते हैं। पूछताछ में उन्होंने बताया है कि हरिद्वार जेबतराशी और चोरी के इरादे से आए थे। आरोपियों के कब्जे से जेब काटने के लिए रखे गए ब्लेड भी बरामद हुए हैं। पुलिस टीम में रोड़ी बेलवाला चौकी प्रभारी एसआई अंशुल अग्रवाल, हरकी पैड़ी चौकी इंचार्ज एसआई मुकेश थलेड़ी, कांस्टेबल अरविन्द नेगी रमेश सिंह शामिल रहे।

पंजाब से लाई जा रही अवैध शराब पकड़ी
रुड़की। पंचायत चुनाव के अंतिम चरण में मतदाताओं को लुभाने के लिए पंजाब से मंगाई गई अंग्रेजी शराब एक खेप को पुलिस ने चेकिंग के दौरान पकड़ लिया। एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।
बुधवार की देर शाम कोतवाली पर तैनात उपनिरीक्षक उमेश कुमार क्षेत्र में चेकिंग कर रहे थे। टिकौला कलां की पुलिया पर पुलिस की टीम वाहनों की चेकिंग कर रही थी। तभी एक वाहन पुलिस को आता दिखाई दिया। पुलिस ने उसे रोककर जांच पड़ताल शुरू की तो उसमें शराब होना पाया गया। पुलिस ने चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तथा मौके पर वाहन की तलाशी ली गई। वाहन से 80 पेटी अंग्रेजी शराब बरामद हुई। जिसकी बिक्री केवल पंजाब में हो सकती थी। वाहन चालक से पूछताछ की गई तो वह पुलिस को गुमराह करने का प्रयास करने लगा। बताया गया है कि पंजाब से शराब यह खेप पंचायत चुनाव में मतदाताओं को लुभाने के लिए मंगाई गई थी। लेकिन किसने शराब मंगाई गई इसके बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। पूछताछ में पकड़े गए आरोपी ने अपना नाम दिलबाग उर्फ जॉनी पुत्र कुलदीप सिंह निवासी ग्राम चूहड़ीवाला फाजिल्का थाना सदर जिला फाजिल्का पंजाब बताया है। एसएसआई दीप कुमार ने बताया कि आरोपी के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। गुरुवार को आरोपी को चालान करने के बाद न्यायालय में पेश कर दिया गया।

दो लाख रू० की चरस के साथ कार चालक गिरफ्तार
विकासनगर। कोतवाली विकासनगर पुलिस ने चमोली जिला निवासी एक कार चालक को एक किलो पचास ग्राम चरस के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी के खिलाफ पुलिस ने एनडीपीएस ऐक्ट में मुकदमा दर्ज किया है। आरोपी को जेल भेज दिया है। पकड़ी गयी चरस की कीमत करीब दो लाख रुपये आंकी गयी है। पुलिस के अनुसार बुधवार देर रात को कोतवाली पुलिस की टीम गश्त पर थी। इस दौरान शक्ति नहर पुल नंबर दो के पास पुलिस ने एक संदिग्ध कार को रोककर तलाशी ली। तलाशी में चालक के पास से पुलिस ने एक किलो पचास ग्राम चरस बरामद की। आरोपी कार चालक राकेश सिंह पुत्र त्रिलोक सिंह निवासी ग्राम रानीहाट पोस्ट ऑफिस बंगाली थाना चमोली जनपद चमोली को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसके खिलाफ एनडीपीएस ऐक्ट में मुकदमा दर्ज किया है। एसपी देहात कमलेश उपाध्याय ने मामले का खुलासा करते हुए पत्रकार वार्ता में कहा कि आरोपी चालक ने पूछताछ में बताया कि वह ऋषिकेश- चमोली रूट पर कार चलाता है। अपने गांव रानीहाट में खुद चरस बनाने का काम करता है। देहरादून में चरस महंगे दामों पर बिकती है। सवारी कार होने पर पुलिस भी चेकिंग नहीं करती। इसलिए वह चरस तस्करी का भी काम करता है। बताया कि विकासनगर में ग्राहकों की तलाश में आया था। जहां पुलिस ने उसे पकड़ लिया। एसपी देहात ने बताया कि पकड़ी गयी चरस की बाजार कीमत करीब दो लाख रुपये है। बताया कि आरोपी को कोर्ट में पेशकर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। पुलिस की टीम में कोतवाल शंकर सिंह बिष्ट, एसएसआई दीपक मैठाणी, चौकी प्रभारी डाकपत्थर अर्जुन सिंह गुसाईं, बाजार चौकी प्रभारी किशन देवरानी, कांस्टेबल रविपाल रजनीश शामिल रहे।

अंग्रेजी शराब के साथ एक गिरफ्तार
श्रीनगर गढ़वाल। श्रीनगर बाजार चौकी पुलिस ने अवैध रूप से अंग्रेजी शराब ले जा रहे एक व्यक्ति को चौरास पुल के पास गिरफ्तार किया गया। चौकी प्रभारी रणवीर चन्द्र रमोला ने बताया कि एसएसपी पौड़ी के निर्देशन में चल रहे चेकिंग अभियान के दौरान चौरास पुल के पास लक्ष्मी प्रसाद, निवासी ग्राम नोठा, थालाबैंड पोखरी हाल निवासी एजेंसी मोहल्ला को अंग्रेजी शराब के साथ गिरफ्तार किया गया। जिसके खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस टीम में हरेन्द्र गुसाईं, शंभू प्रसाद, मंदीप सिंह मौजूद थे।

27.28 लाख की ठगी में नाइजीरियन समेत महिला गिरफ्तार
नई टिहरी। आरबीआई के अधिकारी बनकर घनसाली के एक एनजीओ संचालक को लगभग सवा ग्यारह करोड़ की आर्थिक सहायता ग्रामीण विकास के लिए दिए जाने का लालच देकर 27 लाख 28 हजार 500 रुपये की ठगी करने वाले नाइजीरियन सहित नागालैंड की महिला को घनसाली पुलिस ने ग्रेटर नोएडा से गिरफ्तार किया है। एसएसपी नवनीत सिंह भुल्लर ने पुलिस टीम को बेहतर कार्रवाई के लिए ढाई हजार का इनाम भी घोषित किया। एसएसपी नवनीत सिंह भुल्लर ने गुरुवार को एसएसपी कार्यालय में ठगी को लेकर पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि बीती 11 नवंबर को थाना घनसाली निवासी लक्ष्मी प्रसाद सेमवाल ने स्थानीय थाने में तहरीर देकर बताया कि भिन्न-भिन्न नंबरों से बात कर अपने आप को आरबीआई का अधिकारी बताकर उनकी यूनाइटेड नेशन ऑफ डेवलपमेंट नाम संस्था को ग्रामीण क्षेत्र के विकास के लिए 1.5 लाख डालर (11 करोड़ 25 लाख रुपये) की सहायता देने का झांसा दिया गया। जिसके लिए इस राशि को भारतीय मुद्रा में परिवर्तन और खाते में इनकम टैक्स छूट दिलाने के लिए 27 लाख 28 हजार 500 की धनराशि धोखाधड़ी से अलग-अलग खातों में बीते साल 26 अक्टूबर से 30 अक्टूबर के बीच स्थानांतरित करवाई गई। सेमवाल की तहरीर पर पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर एएसपी विजेंद्र डोभाल के नेतृत्व में साइबर सेल, सीआईयू और घनसाली पुलिस की टीम का गठन किया। टीम ने बीते वर्ष अक्टूबर माह के अंतिम सप्ताह में विभिन्न एटीएम से धनराशि निकासी के दौरान धोखाधड़ी करने वालों की पहचान सीसीटीवी फुटेज से की। आरोपियों ने विभिन्न फर्जी आईडी के आधार पर मोबाइल नंबरों बैंक खातों का प्रयोग किया गया था। पुलिस आरोपी की पहचान करने के बाद धरपकड़ के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में छानबीन शुरू की। गहन पड़ताल के बाद आमिक्रान सिटी ग्रेटर नोएडा यूपी से आरोपियों में नाइजीरिया के बेनिन सिटी निवासी ईरीबोगे जेरोमे विक्टर (42) और चुमुकेटिमा दीमापुर नागालैंड की ग्रेटर नोएडा के आमिक्रान सिटी में रहने वाली लियांग पिक्कखुमला चांग (35) को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि बैकों से मिलती जुलती बेबसाइट बनाकर ग्रामीण क्षेत्र की संस्थाओं को धन देने का लालच देते थे। पुलिस ने बताया कि आरोपियों से अन्य साथियों की जानकारी लेकर धनराशि वापस दिलाने का काम तत्परता से किया जाएगा। आरोपियों से विभिन्न खातों के 35 एटीएम, 12 मोबाइल फोन, एक स्विप्ट कार, 74500 नगद धनराशि बरामद की गई है। आरोपियों के यूका बैंक के एक खाते के 5 लाख 22 हजार 181 रुपये फ्रीज करवा दिए गये हैं। ठगों को पकड़ने में साइबर प्रभारी नदीम, एसआई ओमकांत भूषण, एसआई सुखपाल, एसआई कमल सहित अजयवीर, राहुल सग्वाण, सतेंद्र सिंह, अरविंद रावत, महेश और सुखमीत कौर की भूमिका अहम रही।

घरों में घुसे अज्ञात युवक को लोगों ने पुलिस को सौंपा
चमोली। नगर पालिका के भटनगर सहित आसपास के पांच से अधिक घरों में गुरुवार को एक अज्ञात युवक घुस गया। बताया जा रहा है कि उक्त युवक नग्न अवस्था में था। लोगों ने उक्त युवक को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया। हालांकि इस प्रकार घरों में घुसने से लोगों में हड़कंप भी रहा। स्थानीय लोगों ने पुलिस से रेलवे सहित अन्य निर्माण कार्यों में लगे श्रमिकों और बाहरी लोगों के सत्यापन करने की मांग की है। वहीं पुलिस चौकी प्रभारी मानवेंद्र गुसाईं ने बताया कि उक्त युवक कर्णप्रयाग के आसपास कबाड़ी का काम करता है। जिसकी मानसिक स्थति सही नहीं लग रही है। जिसके परिजनों को सूचित कर दिया गया है।

सेना के रिटायर कैप्टन की जमीन पर भूमाफिया का कब्जा
देहरादून। सेना के रिटायर कैप्टन की जमीन के एक हिस्से पर भूमाफियाओं ने कब्जा कर मकान बना दिया है। पीड़ित का कहना है कि कोविड काल में वह मौके पर नहीं जा पाए। इस दौरान निर्माण किया गया। मामले में कार्रवाई के लिए वह पुलिस-प्रशासन के चक्कर काट रहे हैं। पान सिंह नेगी सेना से रिटायर ऑनरेरी कैप्टन है। उन्हें शौर्य चक्र और सेना मेडल मिल चुका है। वह बांजारावाला के मोनाल एंक्लेव में रहते हैं। उन्होंने वर्ष 2016 में सेना से रिटायर होने के बाद ईस्ट होप टाउन में 723 वर्ग जमीन परविंदर कौर निवासी गोविंदगढ़, इंद्रजीत सिंह निवासी डालनवाला से खरीदी। कहा कि जमीन तब से खाली थी। कोविड कॉल में वह मौके पर नहीं जा पाए। कोविड काल के बाद मौके पर गए इस दौरान देखा तो उनकी करीब 80 वर्ग गज जमीन पर कब्जा कर दो भूमाफियाओं ने मकान बना लिया है। मकान बनाने वालों से पीड़ित ने बात की तो उनसे अभद्रता की गई। इसके बाद पीड़ित ने जमीन खरीदार से संपर्क किया। उसने कुछ दिन शांत रहने को कहा। इसके बाद भी समाधान नहीं निकलने पर 30 सितंबर को एसएसपी कार्यालय में शिकायत की। जिस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं है। एसपी सिटी सरिता डोबाल ने बताया कि उनकी शिकायत पर जांच जारी है।

भीख मांगने वाली महिला गिरफ्तार
देहरादून। भीख मांगने वाली महिला को एंटी हृयूमन ट्रैफिकिंग यूनिट ने गिरफ्तार कर उसके खिलाफ केस दर्ज कराया है। इंस्पेक्टर पटेलनगर सूर्यभूषण नेगी ने बताया कि यूनिट की दरोगा अनीता नेगी अपनी टीम के साथ मंडी चौक से गुजर रही थीं। इस दौरान यहां एक महिला आते-जाते लोगों को रोककर भीख मांग रही थी। पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया। महिला की पहचान शिया (25) हाल निवासी रिस्पनापुल के नीचे स्थित बस्ती, मूल निवासी वीवीफर, नागतोली, कजीवहता जिला बाराबंकी यूपी के रूम में हुई। महिला को पटेलनगर थाना पुलिस के सुपुर्द कर उसके खिलाफ केस दर्ज कराया गया है।

फर्जीवाड़े से पानी कनेक्शन लेने पर केस
देहरादून। फर्जीवाड़े से पानी का कनेक्शन लेने के आरोपी पर जल संस्थान ने केस दर्ज कराया है। राजपुर थानाध्यक्ष जितेंद्र चौहान ने बताया कि जल संस्थान के अधीक्षण अभियंता एसके विकास ने तहरीर दी। आरोप है कि विजयेश चंद नवानी ने फर्जीवाड़ा किया। उनके बारे में चंदशेखर शिमाल ने जल संस्थान को सूचना दी। इसके बाद जांच में पाया कि जिन दस्तावेजों के जरिए कनेक्शन लिया गया वह 2006 के बाद वैध नहीं थे। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ फर्जीवाड़े में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

उत्तराखंड रणजी टीम में खिलाने का झांसा देकर आठ लाख रुपये ठगे
देहरादून। दिल्ली के युवा क्रिकेटर को उत्तराखंड रणजी टीम में खिलाने का झांसा देकर मुरादाबाद के जालसाज ने आठ लाख रुपये ठग लिए। दून बुलाकर आरोपी ने रकम ली। बाद में आरोपी ने पीड़ित को दून स्थित अपने आवास में बुलाकर मारपीट भी की। तहरीर पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। धीरज कुमार निवासी राजपुरी, उत्तमनगर नई दिल्ली क्रिकेट खेलता है। उसकी मुलाकात किरतपुर, बिजनौर में क्रिकेट खेलने के दौरान वर्ष 2021 में अभिषेक गंगवार हाल निवासी सिद्धार्थ रेसकोर्स, मूल निवासी वसंत विहार, गली नंबर तीन, शाहपुर, तिगरी, जिला मुरादाबाद हुई। आरोपी ने धीरज को कहा कि कब तक ऐसे खेलते रहेगा। झांसा दिया कि उत्तराखंड क्रिकेट एसोसएिशन में अच्छी जान पहचान है। वहां रणजी टीम में खिलवा देगा। पीड़ित झांसे में गया। उसका उत्तराखंड रणजी टीम में चयन कराने का झांसा देकर अपने और अपनी पत्नी आकांक्षा गंगवार के खाते में आठ लाख रुपये जमा करवा लिए। इसके बाद टीम चयन कराने के बजाए पीड़ित पर रौब जमाना शुरू कर दिया। पीड़ित को दून आकर पता लगा कि अलग-अलग झांसे में वह अन्य लोगों से भी रकम ठग चुका है। आरोप है कि रकम वापस देने का झांसा देकर बीते 16 मई को पीड़ित को दून में अपने आवास पर बुलाया। आरोप है कि वहां दंपति ने उसके साथ मारपीट की। किसी तरह पीड़ित बचकर वहां से निकला। उसने हाल में डीजीपी कार्यालय में तहरीर दी। इंस्पेक्टर डालनवाला नंद किशोर भट्ट ने बताया कि तहरीर पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। पीड़ित ने आरोपी को दी गई रकम में साढ़े तीन लाख रुपये लोन पर अन्य रकम अपने परिचित-रिश्तेदारों से ली थी।

नौकरी के नाम युवक से ठग लिए 45 हजार रुपये
हल्द्वानी। शहर कोतवाली क्षेत्र में एक युवक से नौकरी के नाम पर ठगी कर ली गई। पीड़ित ने पुलिस को तहरीर सौंपकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। कोतवाली पुलिस ने मामले की जांच भोटिया पड़ाव चौकी प्रभारी को सौंप दी है। पीड़ित नंद किशोर की ओर से पुलिस को दी गई तहरीर में कहा गया है कि 16 सितम्बर को उन्हें एशिया नेट कंपनी की ओर से फोन आया। फोन करने वाले ने बताया कि वह उन्हें 17 हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय पर जॉब दे रहे हैं। इसके लिए उन्हें 360 पन्नों के प्रोजेक्ट को भरकर 324 सही फार्म उपलब्ध कराने होंगे। उन्होंने बताया कि कंपनी की ओर से चार दिन बाद फोन आया कि 317 फार्म सही हैं, जबकि सात फार्म में गलतियां हैं। इनको सुधारने के लिए 19 हजार रुपये जमा करने के पश्चात दस मिनट का समय दिया जाएगा। इस पर उन्होंने बताए नंबर पर धनराशि डालकर फार्म भरकर भेज दिए। कुछ समय बाद फोन करने वाले ने बताया कि आपका क्रेडिट स्कोट 7.6 के बजाए 7.1 ही है। कंपनी की डिमांड पर यहां भी उन्होंने 25 हजार रुपये उनके खाते में डाल दिए। इसके बाद कंपनी ने टालमटोल करना शुरू किया तो उन्हें अपने साथ हुई ठगी का एहसास हुआ। पीड़ित ने कोतवाली में शिकायती पत्र देते हुए कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

Share this story