कोविड कर्फ्यू : उत्तराखंड में एक हफ्ते और आगे बढ़ा कर्फ्यू, अब बाज़ार पांच दिन के बजाए खुलेंगे छह दिन, पढ़िए विस्तृत ख़बर

देहरादून। उत्तराखंड में अनलॉक की प्रक्रिया चरण बद्ध रूप से जारी है। इस क्रम में अब पर्यटन नगरी मसूरी और नैनीताल रविवार को भी खुलेंगी। वहीं अब कोचिंग और जिम भी खुलेंगे।

सोमवार को बताया कि सरकार के शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि कोविड कर्फ्यू को एक हफ्ते और बढ़ाने का निर्णय किया गया है। अब बाजार पांच दिन के बजाय छह दिन गाइड लाइन का अनुसार खुले रहेंगे।

पर्यटन नगरी मसूरी और नैनीताल रविवार को खुले रहेंगे, जबकि मंगलवार को बंद रहेंगे। इसके साथ ही जिम और कोचिंग भी 50 फीसदी क्षमता तक खुलेंगे। कोचिंग में स्कूली बच्चों को नहीं बुलाया जा सकेगा। केवल करियर ओरिएंटेड बच्चों को बुलाया जाएगा। इसके अलावा मॉल और सिनेमाघर फिलहाल बंद रहेंगे।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण सोमवार को कोविड कर्फ्यू के संबंध में मानक प्रचालन प्रक्रिया जारी कर देगा।

की थी 50 फीसदी के साथ कोचिंग संस्थान खोलने मांग 

कोचिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (सीएफआई) ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से मुलाकात कर 50 फीसदी के साथ कोचिंग संस्थानों को खोलने की मांग की थी। सीएफआई के संयोजक आशिष गंभरी ने कहा था कि बीते अप्रैल माह से कोचिंग संस्थान बंद होने से कोचिंग संस्थानों से जुड़े शिक्षकों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है।

बीते साल भी लंबे लॉकडाउन के चलते कोचिंग संस्थानों को भारी नुकसान हुआ था। संकट की इस घड़ी में आर्थिक बोझ बढ़ने से परिवार का पालन पोषण करना चुनौती बनता जा रहा है।

ऐसे में होटल, रेस्टोरेंट की तरह 50 फीसदी के साथ कोचिंग संस्थानों को भी खोलने की अनुमति दी जाए।

चारधाम यात्रा : परिवहन-पर्यटन में अलग-अलग पंजीकरण नहीं

चारधाम यात्रा के लिए इस बार पर्यटन विभाग और परिवहन विभाग में अलग-अलग पंजीकरण नहीं कराना पड़ेगा। सरकार ने इसकी पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी है, जिसके बाद एक ही वेबसाइट से पूरी प्रक्रिया हो जाएगी। जल्द ही इसकी लांचिंग होने जा रही है।

अभी तक एक ओर जहां परिवहन विभाग कॉमर्शियल वाहनों को ग्रीन कार्ड जारी करता था, वहीं पर्यटन विभाग में भी अलग से पंजीकरण कराना पड़ता था। इस समस्या के समाधान के लिए सरकार के निर्देश पर पोर्टल में बदलाव कर दिए हैं।

अब तीर्थयात्रियों को परिवहन या पर्यटन में से किसी एक की वेबसाइट पर पंजीकरण की पूरी सुविधा मिलेगी। उन्हें अलग-अलग पंजीकरण नहीं कराना पड़ेगा। पर्यटन विभाग को वेबसाइट के माध्यम से जो डाटा मिलेगा, वह परिवहन के लिए भी काम आएगा और परिवहन का डाटा, पर्यटन विभाग के भी काम का होगा। परिवहन सचिव डॉ. रंजीत सिन्हा के मुताबिक नई व्यवस्था से तीर्थयात्रियों को खासी राहत मिलेगी।

निजी वाहनों के भी पंजीकरण की कवायद

सरकार इस बार चारधाम यात्रा पर निजी वाहनों से जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए भी ट्रिप कार्ड की सुविधा शुरू करने जा रही है। इससे यह पता चल सकेगा कि कॉमर्शियल वाहनों जैसे टैक्सी, बस के अलावा निजी वाहनों से कितने लोगों ने चारधाम यात्रा की है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.