विधानसभा चुनाव 2022 : उत्तरकाशी जिले की तीनों विधानसभा सीटों पर दावेदारों की बढ़ी मुश्किलें, टिकटों को लेकर मचा घमासान

(रिपोर्ट – रोबिन वर्मा)

उत्तरकाशी : चुनाव आयोग के द्वारा राज्यों में विधानसभा चुनाव कि तारिखों का ऐलान हो चुका है और राष्ट्रीय पार्टीयों के अंदर टिकट बंटवारे को लेकर असमंजस कि स्थिति पैदा हो रखी है। जनपद उत्तकाशी की यमुनोत्री विधानसभा की सीट पर सबसे ज्यादा तनातनी है।

जहां कांग्रेस पार्टी की तरफ से दावेदारी संजय डोभाल और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण ने कर रखी है वही टिकट की दौड़ में दोनों ही उम्मीदवार दिल्ली पंहुच चुके हैं और दोनो नेताओं ने अलग अलग खेमें को पकड़ कर अब टिकट कटने का डर सता रहा है तो दूसरी ओर यमुनोत्री में भाजपा के पास सबसे अधिक दावेदार हैं।

एक तरफ विधायक केदार रावत और दूसरी ओर भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर चौहान, जगवीर भंडारी, रामसुदंर नौटियाल, लक्ष्मण सिहं भंडारी सहित भाजपा के बडे़ नाम भाजपा के पैनल में हैं अब यह तय तो हाईकमान करेगा कि टिकट मिलेगा किसे लेकिन नेता खासे परेशान हैं और जिस नेता के हाथ टिकट नहीं लगता आखिर वह पार्टी की सेवा करेगा या नहीं यह बडा़ सवाल है?

जनपद उत्तरकाशी की पुरोला विधानसभा सीट जो कि अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है यहां भी कांग्रेस दो गुटों में बंट चुकी है एक हरीश रावत गुट और दूसरा प्रीतम गुट कांग्रेस का टिकट गुटबाजी में फंसा हुआ है हांलाकि पैनल में दुर्गेश लाल हरीश रावत गुट से और पूर्व विधायक मालचंद प्रीतम गुट से टिकट की दावेदारी कर रहे हैं, इसके अलावा पैनल में प्यारे लाल हिमानी का नाम भी है लेकिन चर्चाओं में दो नाम ही चला रहे हैं मालचंद और दुर्गेश लाल, वहीं भाजपा की बात करें तो पुरोला विधानसभा में पूर्व विधायक राजकुमार के अलावा पूव विधायक राजेश जुंवाठा व अमीरचंद शाह का भी नाम है अब देखना यह होगा कि पार्टी किस नेता पर भरोसा जताती है, वही अगर बात आदमी पार्टी की करें तो आम आदमी पार्टी ने प्रकाश कुमार को अपना दावेदार बनाया है।

अब गंगोत्री विधानसभा की बात करे तो वहां कांग्रेस के पूर्व विधायक सजवाण और आम आदमी पार्टी से कर्नल अजय कोठियाल जन संपर्क पर लगे हुये हैं और भाजपा अभी मौन है जहां दावेदारों की सूची सबसे लंबी है।

जनपद में विधानसभा चुनाव को लेकर लोगों में खूब चर्चाओं का बाजार गर्म है लेकिन नजरे टिकट बंटवारे पर अटकी हैं बतादें कि दावेदारों की अधिक संख्या सबसे अधिक नुकसान भाजपा को पंहुचायेगी यहां अधिकतर बगावत करेंगे और कुछ भीतरघात अब स्थिति स्पष्ट तो टिकट बंटवारे से होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.