उत्तराखंड में शुक्रवार को मिले 69 कोरोना संक्रमित मरीज, कुल संख्या पहुंची 1724

देहरादून : उत्तराखंड में शुक्रवार को 69 और कोरोना संक्रमित मिले हैं। इन्हें मिलाकर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 1724 हो गई है। वहीं, शुक्रवार को 61 संक्रमित मरीजों को इलाज के बाद घर भेजा गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार आज देहरादून में 17, रुद्रप्रयाग में सात, हरिद्वार में 30, यूएस नगर में नौ, चमोली में तीन और टिहरी में तीन केस सामने आए हैं। जांच रिपोर्ट में 1082 सैंपल निगेटिव और 69 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। हरिद्वार जिले में 30 लोगों में कोरोना की पुष्टि की है। इन सभी संक्रमित मरीजों की ट्रेवल हिस्ट्री है। देहरादून जिले में 17 संक्रमितों में एक स्वास्थ्य कर्मी, पांच दिल्ली से लौटे और 11 लोग संपर्क में आए हुए हैं। रुद्रप्रयाग जिले में सात लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसमें चार दिल्ली व तीन महाराष्ट्र से आए हैं। ऊधमसिंह नगर में नौ संक्रमित मरीज मिले हैं। इनमें पांच दिल्ली, एक मेरठ, एक मुंबई से लौटा हुआ और एक मरीज संपर्क में आया हुआ है। जबकि एक कोरोना संक्रमित मरीज ने दमतोड़ दिया। चमोली जिले में तीन संक्रमितों में एक रायपुर छत्तीसगढ़, दो दिल्ली से आए हैं। टिहरी जिले में तीन संक्रमितों में दो मुंबई और एक मरीज संपर्क में आया है।

प्रदेेश के पांच जिलों में 63 कंटेनमेंट जोन

कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रदेश के पांच जिलों में 63 कंटेनमेंट जोन बनाए हैं। शुक्रवार को देहरादून, टिहरी और ऊधमसिंह नगर जिले में एक-एक कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना संक्रमित मामले बढ़ने से देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, टिहरी, ऊधमसिंह नगर जिले में 63 कंटेनमेंट जोन बनाए गए। इसमें देहरादून में 21, हरिद्वार में 29, टिहरी में नौ, पौड़ी में दो और ऊधमसिंह नगर में दो कंटेनमेंट जोन हैं। जहां पर आवश्यक सेवाओं को छोड़कर बाकी सभी तरह की गतिविधियों और लोगों की आवाजाही पर पूरी तरह से प्रतिबंध है।

कोरोना संक्रमण की रिकवरी दर में पहाड़ आगे

कोरोना संक्रमित मरीजों के ठीक होने की दर में पहाड़ आगे हैं। रुद्रप्रयाग और टिहरी जिले को छोड़कर बाकी पर्वतीय जिलों में रिकवरी दर बेहतर है। अल्मोड़ा जिला में सबसे अधिक 96 प्रतिशत रिकवरी दर है। पूरे प्रदेश में अल्मोड़ा रिकवरी दर में पहले स्थान पर है। जबकि उत्तरकाशी में 85 प्रतिशत, चमोली में 70 प्रतिशत, ऊधमसिंह नगर में 76, नैनीताल में 65 प्रतिशत रिकवरी दर है। संक्रमित मरीजों के ठीक होने की सबसे कम दर रुद्रप्रयाग जिले में सात प्रतिशत है। वहीं, मैदानी जिले देहरादून में 45 प्रतिशत, हरिद्वार में 43 प्रतिशत है। कोरोना आंकड़ों का अध्ययन कर रहे सोशल डेवलपमेंट फॉर कम्युनिटी फाउंडेशन के अध्यक्ष अनूप नौटियाल का कहना है कि उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में देरी से कोरोना संक्रमित मामले मिले हैं। इसके बावजूद पहाड़ों में रिकवरी रेट बेहतर है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.