देहरादून।। जिला अस्पताल समेत अन्य अस्पतालों में कोई दिल का डाक्टर नहीं, नहीं मिल पा रहा पूरा इलाज़

देहरादून। दून के सरकारी अस्पतालों में सिर्फ एक कॉर्डिलॉजिस्ट है, जो दून मेडिकल कॉलेज (दून अस्पताल) में तैनात हैं। यहां भी केवल ओपीडी की ही सुविधा है। ईसीजी, ईको और टीएमटी जांच तो है, लेकिन एंजीयोग्राफी और कैथ लैब नहीं होने से सर्जरी की सुविधाएं नहीं मिल रही है। जिसके चलते यहां से मरीजों को रेफर करना पड़ रहा है।

दून अस्पताल में कार्डियोलॉजिस्ट डा. अमर उपाध्याय कार्यरत हैं। जिला अस्पताल समेत अन्य अस्पतालों में कोई दिल का डाक्टर नहीं है। मेडिकल कॉलेज होने के चलते दून गढ़वाल मंडल का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल है।

यहां पर जिले के साथ ही गढ़वाल मंडल का भार भी है, लेकिन यहां आकर भी पूरा इलाज नहीं मिल पाता है। मरीजों को निजी अस्पतालों में महंगी दरों पर इलाज कराना पड़ता है। एमएस डा. केसी पंत कहते हैं कि आयुष्मान में संबद्ध अस्पतालों या एम्स ऋषिकेश मरीजों को रेफर किया जाता है।

RNS/DHNN

Leave A Reply

Your email address will not be published.